News Description
खंड पंचायत समिति में पाइप-साैर ऊर्जा लाइटें लगाने को कमीशनखोरी, सीएम को शिकायत


जिलेके पांचों खंड की पंचायत समिति में विकास के नाम पर आई ग्रांट में कमीशनखोरी का मामला सामने आया है। कुछ सरपंचों और पंचायत समिति सदस्यों ने सीएम एवं पंचायत मंत्री को पत्र भेजा है। पत्र में बताया गया है कि पाइप और सौर ऊर्जा लाइट खरीद और लगाने के नाम पर कमीशनबाजी हुई है। कुछ गांवों में तो एक चेयरमैन ने बिना प्रस्ताव के पाइप भेज दिए। जिसे बाद में वापस भेज दिया गया। सरपंचों का कहना है कि जब ग्रांट हमारे खाते में आती है तो विकास कार्य करवाने और समान खरीद का अधिकार भी उनका है। लेकिन पंचायत समिति स्तर पर इसकी पालना नहीं हो रही है। 

जिले के खंड बावल, खोल, जाटूसाना, रेवाड़ी नाहड़ में तीन ऐसे हैं जहां से विकास कार्य के नाम पर आई राशि में अधिकांश का हिस्सा पाइप और सौर ऊर्जा लाइट पर ही खर्च किया गया है। 

उन गांवों में पाइप लाइट भेजी गई है जो पंचायत समिति की शर्तों पर चलते हैं। मसलन सामान समिति कार्यालय भेजेगा और ग्रांट पंचायत के खाते में जाएगी। इसके बाद चैक पंचायत काट कर देगी। कायदे से कागजों में पंचायत समान की गुणवत्ता के लिए जिम्मेदार होगी लेकिन कमीशनखोरी समिति कार्यालय की तरफ से हो रही है। लाखों रुपए का खेल हो चुका है। निष्पक्ष जांच होने पर एक बड़ा घोटाला सामने जाएगा। उधर, राजनीति दबाव से अधिकारी कार्रवाई करने से कतरा रहे हैं इसलिए सीएम को शिकायत भेज कार्रवाई की मांग की है।