# रक्षा मंत्रालय ने इजरायल के साथ रद्द की 500 मिलियन डॉलर की मिसाइल डील         # कालेधन पर भारत को जानकारी देंगे स्विस बैंक, पैनल की मंजूरी         # गुजरात चुनाव: कांग्रेस ने जारी की पहली लिस्ट, 77 उम्मीदवारों के नामों का ऐलान         # दीपिका पादुकोण को जिंदा जलाने पर रखा 1 करोड़ का इनाम         # कश्मीर घाटी में लश्कर के शीर्ष नेतृत्व का सफाया: सेना         # आसमान छू रहे अंडों के दाम, चिकन के बराबर पहुंची कीमतें         # महाराष्ट्र: सड़क किनारे टॉयलेट करते पकड़े गए जल संरक्षण मंत्री राम शिंदे         # चीन में नए भारतीय राजदूत के रूप में आज कार्यभार ग्रहण करेंगे बंबावले         # ICJ चुनाव में भारत को रोकने के लिए ब्रिटेन ने चली गंदी चाल        
News Description
किसानों की बेटियों ने सीएम का पुतला फूंका

स्वामीनाथनआयोग की रिपोर्ट लागू करने और कर्ज माफी की मांग को लेकर लघु सचिवालय परिसर में किसानों का बेमियादी धरना मंगलवार को नौवें दिन भी जारी रहा। धरने में महिला किसानों ने भी शिरकत की और उन्होंने सीएम का पुतला फूंक कर रोष का इजहार किया। महिला किसान नेता ने सरकार को चेतावनी भी दी कि अगर किसानों की मांगों को जल्द पूरा नहीं किया तो किसानों की संतानें और उनके पालतू पशु भी लघु सचिवालय में पड़ाव डालने के लिए मजबूर हो जाएंगे। 

सीएम का पुतला फूंकने से पहले धरनारत किसानों ने प्रदेश सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी भी की। धरने का नेतृत्व कर रहे स्वामीनाथन आयोग संघर्ष समिति के राष्ट्रीय अध्यक्ष विकल पचार और किसान नेता प्रकाश ममेरा ने कहा कि खेती घाटे का सौदा बन चुकी है। कर्ज तले दबा किसान अपनी मांगों को लेकर आंदोलन करने को मजबूर हैं। सरकार ने किसानों की मांगें नहीं मानी तो किसान खेती छोड़ने को मजबूर होगा। उन्होंने कहा कि सरकार ने सत्ता में आने से पहले किसानों से वादा किया था कि स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट लागू की जाएगी और किसानों को फसलों के उचित दाम दिलाएंगे। लेकिन तीन साल से सरकार ने किसानों की सुध नहीं ली है। 

किसान नेताओं ने मध्यप्रदेश में कर्ज माफी की मांग को लेकर आंदोलनरत किसानों का जिक्र करते हुए कहा कि मप्र के किसानों पर पुलिस की ओर से लाठियां और गोलियां चलवा कर मध्यप्रदेश की भाजपा सरकार किसानों की आवाज को दबाना चाहती है। इसी तर्ज पर हरियाणा सरकार करना चाहती है लेकिन किसान डरने वाले नहीं हैं। अपने हकों की लड़ाई लड़ने को बड़ी से बढ़ी कुर्बानी देने को तैयार हैं। इस मौके पर किसान नेता कृष्ण ढाका, हरफूल श्योराण, धर्मपाल श्योराण, ख्यालीराम, मनोज जांदू, दीपिका कासनिया, कविता, मनीषा, रेणु, मैना देवी, संतोष, सिलोचना, गिरदावरी, मैना देवी, सरोज, बलवंती, शकुंतला, सुमित्रा, दीपिका औलख, रामस्वरूप, राममूर्ति कुसुंबी, महेंद्र, बिंदर सिंहपुरा नाजर सिंह अन्य लोग भी थे।