दिल्ली नगर निगम एमसीडी चुनाव में बीजेपी की हैट्रिक, दो-तिहाई बहुमत से ज्यादा सीटें         वैश्विक संकेतों के असर से सेंसेक्स-निफ्टी नई ऊंचाई पर, सेंसेक्स ने 30,071 का नया रिकॉर्ड बनाया         दादी शोभा नेहरू के अंतिम संस्कार में पहुंचे राहुल गांधी         शशिकला का भतीजा दिनाकरन अरेस्ट, EC को घूस की पेशकश करने का आरोप         MP के बालाघाट में हाईटेंशन तार से टकराकर ट्रेनी प्लेन क्रैश, 2 पायलटों की मौत         भोपाल में काम के घंटे कम करने और नियमितिकरण की मांग को लेकर 108 के कर्मचारी हड़ताल पर         छाती ठोक शहीद की पत्नी ने कहा- बेटा भी तैयार है, विदाई देने उमड़े गांव         रुपये में जबरदस्त मजबूती, 20 महीने के उच्चतम स्तर पर; डॉलर के मुकाबले 64.19 कीमत         क्रिकेट के सबसे सफल बॉलर ने माना भुवनेश्‍वर कुमार को आईपीएल के सर्वश्रेष्‍ठ तेज गेंदबाजों में ए         बंद होगा कपिल शर्मा का कॉमेडी शो, सलमान खान कर सकते हैं उन्हें रिप्लेस         दिल्ली MCD में BJP की लगातार तीसरी जीत         अजय माकन ने छोड़ा दिल्ली कांग्रेस प्रेसिडेंट का पद         केजरी की कथनी-करनी मे आया फर्क: अन्ना        
Haryana Voice
Kya Kulbshan Jadhav ke mamle me bharat ko Pakistan ke khilaf kada rukh apnana chahiye?
Yes
No
Can't say


View results
News Description
विमल पर कार्रवाई दुर्भाग्यपूर्ण : दीपेन्द्र हुड्डा

विमल पर कार्रवाई दुर्भाग्यपूर्ण : दीपेन्द्र हुड्डा
कांग्रेस तथा आप भी पुलिस के समर्थन में उतरे
कैथल,  (सरबजीत): सीआईए-2 से विमल कुमार को निलंबित करने की कांग्रेस तथा आप पार्टी ने जोरदार विरोध किया है। कांग्रेस के सांसद दीपेंद्र हुड्डा ने पुलिस अधिकारी के निलंबन की कड़े शब्दों में निंदा की। दीपेन्द्र हुड्डा ने विमल कुमार पर की गई कार्रवाई को बड़ा दुर्भाग्यपूर्ण बताया। सांसद दीपेन्द्र हुड्डा रविवार को कैथल के ढंाड में पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। यहां दीपेन्द्र हुड्डा ने भाजपा सरकार पर तंज कसते हुए कहा कि प्रदेश में कानून व्यवस्था चौपट हो चुकी है। उन्होंने कहा कि भाजपा के दबाव में एक पुलिस अधिकारी पर जो कार्रवाई की गई है, उसकी जितनी निंदा की जाए, वह कम है। उन्होंने कहा कि ऐसी कार्रवाई नहीं होनी चाहिए थी। अगर कार्रवाई की जानी थी तो कानून अनुसार की जानी चाहिए थी, लेकिन भाजपा ने दबाव में एक पुलिस अधिकारी को निलंबित करवाकर अपनी तानाशाही नीतियों को उजागर किया है। भाजपा सत्ता के नशे में लोकतंत्र का हनन कर रही है।
 
 
सत्ता का ऐसे दबाव रहा तो कैसे होगा भयमुक्त शासन : अमराव
विमल के समर्थन में बढ़ता जा रहा जनाधार
कैथल,  अप्रैल (सरबजीत): सीआईए-2 से निलंबित किए गए विमल कुमार के समर्थन में निरंतर जनाधार बढ़ता जा रहा है। भाजपा सरकार में जहां उन्हें निलंबित किया गया है तो वहीं अन्य दलों एवं समाजसेवा क्षेत्र से जुड़े लोगों का उन्हें भरपूर समर्थन मिल रहा है। ह्यूमन राईट्स हरियाणा के प्रधान एवं प्रमुख समाजसेवी अमराव सिंह ने भी विमल कुमार के समर्थन में अपनी आवाज उठाई है। विमल कुमार पर भाजपा द्वारा दबाव बनाकर उन्हें निलंबित करने की उन्होंने कड़े शब्दों में निंदा की है। अमराव सिंह ने कहा कि एक तरफ तो सरकार ने प्रदेश को नशामुक्त का अभियान चलाने के लिए पुलिस प्रशासन को निर्देश दिए है, जिसके चलते पुलिस प्रशासन अवैध खुर्दों पर अपनी कार्रवाई कर रहा है तो वहीं जब ऐसे स्थिति आती है तो सरकार अपनी ही पार्टी के लोगों के दबाव में आ जाती है। उन्होंने कहा कि भाजपा के दबाव में जो पुलिस अधिकारी विमल कुमार एवं अन्य पुलिस कर्मियों पर विभागीय कार्रवाई की गई है, उससे तो यह जाहिर होता है कि अगर सत्ता का ऐसे ही दबाव रहा तो पुलिस प्रशासन जनता को भयमुक्त शासन कैसे दे पाएगा। उन्होंने कहा कि आज विमल कुमार के समर्थन में जनता को खड़ा होने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि विमल कुमार एवं अन्य पुलिस कर्मियों पर जो कार्रवाई की गई है, वह उसकी कड़ी निंदा करते हैं। 
 
विमल कुमार के समर्थन में सर्व कर्मचारी संघ 5 को करेगा शहर में जोरदार प्रदर्शन
कैथल,  सीआईए पुलिस इंस्पेक्टर विमल कुमार व अन्य पुलिसकर्मियों पर मुकदमे दर्ज करके निलंबित किए जाने के विरोध में सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा जिला कैथल ने कड़े शब्दों में निंदा की है  और इस कार्यवाही के विरोध में आज पुलिस अधीक्षक को ज्ञापन दिया। यह जानकारी देते हुए संघ के जिला प्रधान जसवीर सिंह, सचिव जरनैल सिंह, ओमपाल,शिव चरण, रामपाल व प्रैस सचिव सतवीर गोयत ने बताया कि सर्च वारंट के साथ विमल कुमार ने जिस अपराधी प्रवृत्ति वाले भाजपा नेता के ठिकाने पर छापा मारने के विरोध में कुछ गुंडा तत्वों द्वारा थाने में की गई तोडफ़ोड़ और उल्टे पुलिस कर्मियों पर मुकदमे दर्ज करके निलंबित करने की कार्यवाही की सर्व कर्मचारी संघ घोर निंदा करता है संघ के नेताओं ने कहा कि यदि 4 अप्रैल  तक सभी कर्मियों को बहाल करके तोडफ़ोड़ करने वाले अपराधियों पर मुकदमा दर्ज करके कार्यवाही नहीं की गई तो 5 अप्रैल को सर्व कर्मचारी संघ पुलिस कर्मचारियों के समर्थन में पूरे शहर में जोरदार प्रदर्शन करेगा और यदि फिर भी सरकार ने कोई कार्यवाही नहीं की तो आने वाले समय में कर्मचारी लंबा आंदोलन छेडऩे पर मजबूर होंगे जिस की सारी जिम्मेवारी जिला प्रशासन की होगी।