# कारगिल विजय दिवस पर मोदी और जेटली ने दी श्रद्धांजलि         # मनाली में रोहतांग सुरंग के निकट फटा बादल, सड़क बही         # ब्रिटेन मे भारतीय मूल की मुस्लिम युवती की हत्या          # सहारा ग्रुपः सुप्रीम कोर्ट ने 1500 करोड़ रुपये जमा कराने का दिया आदेश         # सरकार ने खत्म किया भारत में ड्राइवरलैस कार का सपना         # भारत ने रिहा किए दस पाकिस्तानी कैदी         # पीएम ने किया बाढ़ प्रभावित इलाकों का हवाई सर्वे, 500 करोड़ राहत पैकेज का एेलान         # 9982 पर निफ्टी, सेंसेक्स में दिखी 45 अंकों की तेजी         # चीन के पीछे हटने पर ही डोकलाम से हटेगी भारत की सेना         # राष्ट्रपति ने नेहरू का जिक्र न किया तो भड़क गई कांग्रेस         दिल्ली कोर्ट ने शब्बीर शाह को 7 दिन की ED रिमांड पर भेजा          # श्रीलंका के खिलाफ दोहरे शतक से चूके शिखर         सोनीपत विधानसभा क्षेत्र के लोग अपने विधायक से सबसे ज्यादा खुश-सर्वे रिपोर्ट        
News Description
प्रदेशभर में बारिश, 8 डिग्री तक गिरा टैम्परेचर, कल से प्री मानसून के आसार

पानीपत/करनाल.प्रदेशभर में गुरुवार रात और शुक्रवार सुबह हुई से बारिश से लोगों ने राहत महसूस की है। अधिकतम तापमान में 6 से 8 डिग्री तक की कमी आई है। तेज हवा के साथ कई जिलों में अच्छी बरसात हुई। रोहतक में 64, झज्जर में 48 और करनाल में 9.8 एमएस पानी बरसा। इसी तरह, हिसार में 3.6 और भिवानी-फरीदाबाद में एक-एक एमएम बरसात हुई। मौसम बदलने से 40 के पार चल रहा अिधकतम तापमान घटकर 33 डिग्री सेल्सियस के आसपास आ गया है। मौसम विभाग (आईएमडी) के अनुसार 18 से 20 जून तक प्रदेश में अच्छी बरसात के आसार हैं। तेज हवा व कहीं-कहीं ओले भी पड़ सकते हैं। इसे प्री मानसून कहा जा सकता है।
 
 
इस बार हरियाणा में समय से पहले आ सकता है मानसून
आईएमडी के चंडीगढ़ स्थित रीजनल सेंटर के अध्यक्ष सुरेंद्र पाल के अनुसार बिहार में मानसून आ चुका है। दो तीन दिनों में बिहार को कवर कर लेगा। इस बार संभावना लग रही है कि हरियाणा में 25 तक मानसून आ जाएगा।
 
अमूमन यह 29 जून से एक जुलाई के बीच आता है। चार माह तक मानसून सीजन रहता है और प्रदेश में करीब 462 एमएम बरसात होती है। हरियाणा में खरीफ सीजन में करीब 32 लाख हेक्टेयर में फसलों की बोवनी होती है। इसमें धान 12 लाख, कपास 6 लाख, ग्वार करीब तीन लाख, बाजरा करीब 5 लाख, गन्ना करीब 1.15 लाख हेक्टेयर में बोया जाता है। इसके अलावा सब्जियां व अन्य दलहनी व तिलहनी फसलों की बिजाई की जाती है। इसलिए किसानों के लिए मानसून महत्वपूर्ण है।