News Description
जच्चा-बच्चा केंद्र पर सुविधा नहीं होने से परेशानी

नूंह : खंड के गांव घासेड़ा स्थित जच्चा-बच्चा केंद्र पर क्षेत्र के 30 गांवों का जिम्मा है। लेकिन कई माह से यहां पर एंबुलेंस की कोई सुविधा नहीं है। जिस कारण यहां पर लोगों को अपने वाहनों से आना पड़ रहा है। इसके अलावा यहां पर महिलाओं की डिलीवरी के लिए भी बेड नहीं है।

जिससे फर्श पर ही डिलीवरी करनी पड़ रही है। इस बारे में ग्रामीणों ने संबंधित विभाग को कई बार अवगत कराया है। लेकिन अभी तक इस समस्या का कोई समाधान नहीं किया जा रहा है। जिससे ग्रामीणों में संबंधित विभाग के प्रति भारी रोष पनप रहा है। बुधवार को ग्रामीणों ने सरकार व प्रशासन के प्रति नारेबाजी कर अपना रोष प्रकट किया। लोगों ने जच्चा-बच्चा केंद्र में सुविधाएं उपलब्ध नहीं होने पर ताला लगाने की धमकी भी दी।

बता दें, कि वर्षों पहले खंड के गांव घासेड़ा में जच्चा-बच्चा केंद्र की शुरुआत की गई थी। उस समय ग्रामीणों को महिलाओं व शिशुओं की सुरक्षा के लिए बहुत सारी उम्मीदें जगी थी। लेकिन अभी भी जच्चा-बच्चा केंद्र पर सुविधाओं के घोर अभाव है। जिससे यहां पर आने वाले लोगों को निराशा का सामना करना पड़ रहा है। ताहिर चायवाला, अख्तर हुसैन, मोहम्मद उसमान, अलीमोहम्मद, जाकिर हुसैन, मोहम्मद नासिर, सहाबुद्दीन, आलम, कल्लू, उम्मर, रशीद व अंग्रेज ने बताया कि उनके यहां पर जच्चा-बच्चा केंद्र पर कई महीनों से एंबुलेस नहीं है।

जिससे महिलाओं को यहां पर प्राईवेट वाहनों से ही आना पड़ रहा है। इसके अलावा यहां पर डिलीवरी रूम में बेड की सुविधा भी नहीं है। जिससे फर्श पर ही डिलीवरी करनी पड़ रही है। उन्होंने बताया कि यहां के हालातों के बारे में संबंधित विभाग को कई बार अवगत कराया। लेकिन उनको हर बार निराशा का सामना करना पड़ा। ऐसे में ग्रामीणों ने प्रशासन को चेतावनी दी की अगर जल्द जच्चा-बच्चा केंद्र पर सुविधाएं नहीं दी गई, तो वह यहां पर ताला जड़ देंगे