News Description
नर्सों की लापरवाही से गर्भ में पल रहे बच्चे की मौत

पिनगवां :मांडीखेड़ा के सामान्य अस्पताल में नर्सों द्वारा तीन दिन तक डिलीवरी नहीं कराने से शिशु की मौत का मामला प्रकाश में आया है। पीड़ित ने नर्सों पर डिलीवरी में लापरवाही बरतने का आरोप लगाया है।

मोहमदा निवासी साकरस ने आरोप लगाया कि वह अपनी पत्नी मिसकीना को प्रसव पीड़ा के दौरान डिलीवरी के लिए सामान्य अस्पताल मांडीखेड़ा लेकर पहुंचा, जहां उसे तीन दिन के लिए भर्ती कर लिया गया। मगर अस्पताल में नर्सों द्वारा देखभाल नहीं करने पर गर्भ में पल रहे शिशु का जन्म लेने से पहले ही मौत हो गई। उनका कहना है कि नर्सों द्वारा बरती गई लापरवाही ने उनके बच्चे की जान ली है।

मोहमदा निवासी साकरस ने आरोप लगाया पैसों की मजबूरी के कारण वह अपनी पत्नी मिसकीना को डिलीवरी के लिए सरकारी अस्पताल मांडीखेड़ा लाया था, जहां उसे भर्ती तो कर लिया गया, मगर उसकी पत्नी मिसकीना के साथ 41 नंबर कमरे में तैनात नर्स ने अभद्र व्यवहार करके दवा न होने का बहाना बनाकर तीन दिन बाद मेडिकल कॉलेज नल्हड़ के लिए रेफर कर दिया।

नल्हड़ पहुंचने पर भी पीड़ित मिसकीना का दर्द कम नहीं हुआ। ऐसे में उसके पति से मिसकीना का दर्द सहा न गया और उसे मजबूरी में पुन्हाना के प्राइवेट अस्पताल का सहारा लेना पड़ा। तब तक बच्चा मर चुका था।