# पाक PM के आरोप पर भारत का पलटवार-टेररिस्तान है पाकिस्तान         # मोदी का वाराणसी दौरा आज, 305 करोड़ से बने ट्रेड सेंटर का करेंगे इनॉगरेशन         # समुद्र में बढ़ेगा भारत का दबदबा, पहली स्कॉर्पिन पनडुब्बी तैयार         # रोहिंग्या विवाद के बीच म्यांमार को सैन्य साजो-सामान दे सकता है भारत         # चीन में सोशल मीडिया पर इस्लाम विरोधी शब्दों के प्रयोग पर लगी रोक         # परवेज मुशर्रफ का दावा-बेनजीर की हत्या के लिए उनके पति जरदारी जिम्मेदार          # भारत ने अफगानिस्तान में 116 सामुदायिक विकास परियोजनाओं की ली जिम्मेदारी         # जम्मू-कश्मीर में दो आतंकी गिरफ्तार, सशस्त्र सीमाबल पर किया था हमला        
News Description
गैंगस्टरों के निशाने पर था भतीजा, नहीं मिला तो चाचा का मर्डर कर भाग निकले

पानीपत.सोनीपत के रिठाल में कुकी और काला के बीच चौधर को लेकर पनपी गैंगवार में कुकी गैंग के गैंगस्टर महज आठ सेकंड में सतबीर की हत्या कर भाग निकले। आहूलाना निवासी सतबीर के भाई फूलकुमार ने बताया कि गैंगस्टरों के निशाने पर भतीजा था। वह जुवेनाइल कोर्ट में पेशी पर अाया था उसके साथ पुलिस ज्यादा थी, इसलिए गैंगस्टर चाचा सतबीर को मार डाला। हत्यारे सतबीर को नहीं जानते थे, उसी ने ही उसकी पहचान करवाई होगी।
 
- फूलकुमार का कहना है कि सीसीटीवी कैमरे में जाे युवक गोली मारता दिखा है वह भठगांव निवासी संजीत उर्फ शक्ति है। जो कुकी गैंग से है।
- पिछले दिनों पेशी पर जाते हुए पुलिस की आंखों में मिर्च डालकर और फायरिंग करते हुए वह फरार हो गया था। कुकी अभी सिरसा जेल में बंद है।
- हत्या के बाद फोरेंसिक एक्सपर्ट डॉ. नीलम आर्या मौके पर पहुंची और घटनास्थल से सबूत जुटाए।
 
गैंगवार में यह चौथा मर्डर
- फूलकुमार ने बताया कि भाई के नाबालिग बेटे का रिठाल निवासी सुरेंद्र काला के साथ मिलना जुलना था।
- 2015 में गांव के कुकी ने चौधर की लड़ाई में संजीत के साथ मिलकर काला की हत्या कर दी थी। पिछले दिनों काला गैंग ने कुकी के छोटे भाई की हत्या कर दी थी। इस केस में वह बाल सुधार गृह में है।
-पिछले साल कुकी व संजीत ने दूसरे भतीजे की गोहाना में हत्या कर दी थी। उसका सीआईएसएफ में इंस्पेक्टर के पद पर चयन हो गया था।
- सिवाह गढ़ी में हुई चाचा भतीजे की हत्या में भी उसको पुलिस ने पकड़ा था। गलत संगत में पढ़ चुके भतीजे को परिजनों ने पढ़ाई के लिए दिल्ली भी छोड़ा था, लेकिन वह पढ़ लिखकर कुछ बनने की बजाय गलत रास्ते पर निकल गया।