# रक्षा मंत्रालय ने इजरायल के साथ रद्द की 500 मिलियन डॉलर की मिसाइल डील         # कालेधन पर भारत को जानकारी देंगे स्विस बैंक, पैनल की मंजूरी         # गुजरात चुनाव: कांग्रेस ने जारी की पहली लिस्ट, 77 उम्मीदवारों के नामों का ऐलान         # दीपिका पादुकोण को जिंदा जलाने पर रखा 1 करोड़ का इनाम         # कश्मीर घाटी में लश्कर के शीर्ष नेतृत्व का सफाया: सेना         # आसमान छू रहे अंडों के दाम, चिकन के बराबर पहुंची कीमतें         # महाराष्ट्र: सड़क किनारे टॉयलेट करते पकड़े गए जल संरक्षण मंत्री राम शिंदे         # चीन में नए भारतीय राजदूत के रूप में आज कार्यभार ग्रहण करेंगे बंबावले         # ICJ चुनाव में भारत को रोकने के लिए ब्रिटेन ने चली गंदी चाल        
News Description
गैंगस्टरों के निशाने पर था भतीजा, नहीं मिला तो चाचा का मर्डर कर भाग निकले

पानीपत.सोनीपत के रिठाल में कुकी और काला के बीच चौधर को लेकर पनपी गैंगवार में कुकी गैंग के गैंगस्टर महज आठ सेकंड में सतबीर की हत्या कर भाग निकले। आहूलाना निवासी सतबीर के भाई फूलकुमार ने बताया कि गैंगस्टरों के निशाने पर भतीजा था। वह जुवेनाइल कोर्ट में पेशी पर अाया था उसके साथ पुलिस ज्यादा थी, इसलिए गैंगस्टर चाचा सतबीर को मार डाला। हत्यारे सतबीर को नहीं जानते थे, उसी ने ही उसकी पहचान करवाई होगी।
 
- फूलकुमार का कहना है कि सीसीटीवी कैमरे में जाे युवक गोली मारता दिखा है वह भठगांव निवासी संजीत उर्फ शक्ति है। जो कुकी गैंग से है।
- पिछले दिनों पेशी पर जाते हुए पुलिस की आंखों में मिर्च डालकर और फायरिंग करते हुए वह फरार हो गया था। कुकी अभी सिरसा जेल में बंद है।
- हत्या के बाद फोरेंसिक एक्सपर्ट डॉ. नीलम आर्या मौके पर पहुंची और घटनास्थल से सबूत जुटाए।
 
गैंगवार में यह चौथा मर्डर
- फूलकुमार ने बताया कि भाई के नाबालिग बेटे का रिठाल निवासी सुरेंद्र काला के साथ मिलना जुलना था।
- 2015 में गांव के कुकी ने चौधर की लड़ाई में संजीत के साथ मिलकर काला की हत्या कर दी थी। पिछले दिनों काला गैंग ने कुकी के छोटे भाई की हत्या कर दी थी। इस केस में वह बाल सुधार गृह में है।
-पिछले साल कुकी व संजीत ने दूसरे भतीजे की गोहाना में हत्या कर दी थी। उसका सीआईएसएफ में इंस्पेक्टर के पद पर चयन हो गया था।
- सिवाह गढ़ी में हुई चाचा भतीजे की हत्या में भी उसको पुलिस ने पकड़ा था। गलत संगत में पढ़ चुके भतीजे को परिजनों ने पढ़ाई के लिए दिल्ली भी छोड़ा था, लेकिन वह पढ़ लिखकर कुछ बनने की बजाय गलत रास्ते पर निकल गया।