News Description
अपंग, नेत्रहीन मंदबुद्धि बच्चों को 20 हजार की मिलेगी सहायता

हरियाणा सरकार की ओर से श्रमिकों के लिए कई जन स्कीमें चलाई जा रही है। इससे श्रमिक मुख्य धारा से जुडकर आत्म सम्मान के साथ जीवन बसर कर सके। यह सभी स्कीमें हरियाणा भवन और अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण बोर्ड द्वारा चलाई जा रही है।

डीसी गौरी पराशर जोशी ने बताया कि सीएम श्रमिक सामाजिक सुरक्षा योजना के तहत श्रमिकों को वित्तीय सहायता प्रदान की जाती है। इस स्कीम के तहत पंजीकृत कर्मकार की मृत्यु होने पर बोर्ड की ओर से पांच लाख रूपए, निशक्तता पर 50 हजार रुपए से एक लाख रुपए तक की वित्तीय सहायता दी जा रही है। इसी तरह मृतक कामकारों की विधवाओं और आश्रितों के लिए एक लाख रूपए की आर्थिक मदद दी जा रही है। मृतक के दाह संस्कार के लिए मृतक की विधवा एवं आश्रितों को 15 हजार रूपए दिए जा रहे है। मुख्यमंत्री श्रम पुरस्कार योजना के तहत 20 हजार रुपए से एक लाख रुपए, कन्यादान योजना के तहत लडक़ी की शादी के लिए 51 हजार रुपए की राशि प्रदान की जाती है।

इस योजना का लाभ दो लड़कियों से बढ़ाकर तीन लड़कियों की शादी तक किया गया है। श्रमिकों के बच्चों के लिए स्कूल की वर्दी, कापियां किताबों के लिए दो हजार रुपए से 3 हजार रुपए तक की आर्थिक मदद बोर्ड की ओर से की जाती है। प्रस्तुति योजना के तहत 7 हजार रुपए, श्रम कल्याण केंद्र योजना के तहत श्रम केंद्रों से कामगारों की प|ियों लड़कियों के लिए कपड़ों की सिलाई, कटाई, कढ़ाई तथा बुनाई आदि के लिए निशुल्क प्रशिक्षण तथा निशक्तता योजना के तहत 20 हजार से 30 हजार रुपए की राशि की आर्थिक मदद मुहैया करवाई जा रही है। महिला श्रमिकों को 3500 रुपए की सिलाई मशीन निशुल्क प्रदान की जा रही है।

छात्रवृति योजना के अंतर्गत 4 हजार रुपए से 15 हजार रुपए तक छात्रवृति प्रदान की जा रही है। चश्में के लिए एक हजार रुपए तथा साईकिल के लिए 3 हजार रुपए की आर्थिक मदद प्रदान की जा रही है।