# बयान से पलटे करणी सेना प्रमुख ,पद्मावत देखने से इंकार         # अमेरिका में शटडाउन खत्म, राष्ट्रपति ट्रंप ने साइन किए बिल         # दिल्ली: राजपथ पर फुल ड्रेस रिहर्सल आज, कई जगह मिल सकता है जाम         # सेंसेक्स की डबल सेंचुरी, पहली बार 36000 के पार, निफ्टी ने भी रचा इतिहास         # सीलिंग के विरोध में दिल्ली के सभी बाजार आज रहेंगे बंद         # भारत-पाक बॉर्डर पर तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में LOC के आर - पार बस सेवा फिर शुरू         # मिजोरम में शरण लिए म्यांमार के 1400 लोगों का देश लौटने से इनकार         # हरियाणा में सरकारी कर्मचारियों को देना होगा दहेज नहीं लेने का शपथ पत्र         # हरियाणा के कांग्रेस विधायकों को पार्टी फंड के लिए नोटिस         # दिल्ली एनसीआर में मौसम ने ली करवट, हल्की बारिश से ठंड की वापसी        
News Description
जेएलएन फीडर का जीर्णोद्धार का काम शुरू ,50 वर्षों तक पूरा पानी आपूर्ति करने की क्षमता

नारनौल- 5 : अक्टूबर। खूबडू से साल्हावास तक दक्षिणी हरियाणा के तीन जिलों में पानी की आपूर्ति करने वाली जेएलएन फीडर के जीर्णोद्धार का काम शुरू हो गया है। नांगल चौधरी के विधायक व मुख्यमंत्री द्वारा गठित सिंचाई सलाहकार एवं निगरानी कमेटी के अध्यक्ष डा. अभय सिंह यादव ने आज झज्जर जिले के गांव मुंदसा के नजदीक इस फीडर पर सीमेंट कंकरीट द्वारा नहर को पक्का करने के काम का निरीक्षण किया। 
नहर के निरीक्षण के बाद डा. अभय सिंह यादव ने बताया कि खूबडू से साल्हावास तक लगभग 104 किलोमीटर लंबी जेएलएन फीडर पर लगभग 300 करोड़ रुपए इसके जीर्णोद्धार पर खर्च होंगे। इसे ईंटों की जगह सीमेंट कंकरीट द्वारा बनाया जाएगा। 
उन्होंने बताया कि यह काम पेवर मशीन द्वारा आधुनिक तकनीक से अलग-अलग हिस्सों में परीक्षण के तौर पर शुरू किया गया है। एक हिस्से में ईंटों पर ही आरसीसी डाली जा रही है। दूसरे हिस्से में ईंटों को उखाड़कर आरसीसी डाली जा रही है तथा तीसरे हिस्से में आरसीसी के साथ स्टील डाला जा रहा है। इसके बाद इन तीनों तकनीक को आईआईटी रुड़की व दिल्ली के सीनियर इंजीनियर डिजाइन को पास करेंगे। इंजीनियरों द्वारा जो भी तकनीक सही पाई जाएगी उसी से समस्त नहर का पुनर्निर्माण होगा। 
डा. यादव ने बताया कि इस प्रोजेक्ट को अगले दो साल के अंदर-अंदर पूरा कर लिया जाएगा। यह काम पूर होने के बाद जेएलएन फीडर की पूरी क्षमता के मुताबिक 3500 क्यूसिक पानी चल सकेगा। इसी बारिश के सीजन में 2750 क्यूसिक पानी की आपूर्ति हो पाई थी। इससे पहले कई वर्षों से केवल 2000 क्यूसिक पानी की आपूर्ति हो पा रही थी।