News Description
विशिष्ट अतिथियों को रानी तालाब मंदिर का मॉडल भेंट कर प्रसिद्धि बढ़ाएगा प्रशासन

शहर की पहचान कहे जाने वाले रानी तालाब मंदिर को देश-प्रदेश में प्रसिद्ध करने के लिए जिला प्रशासन ने रोडमैप तैयार लिया है। इसके तहत किसी भी राजनीतिक या सामाजिक समारोह में जींद पहुंचने वाले सभी विशिष्ट अतिथियों को सम्मान रानी तालाब मंदिर का मॉडल भेंट किया जाएगा। उपायुक्त अमित खत्री ने मंदिर की प्रतिकृति तैयार करने के लिए आर्डर दे दिए हैं। इससे पहले रानी तालाब में तीन रंगीन फव्वारे भी लगवाए जा चुके हैं।

शहर के बीचों-बीच स्थित रानी तालाब मंदिर का सही नाम श्री हर कैलाश मंदिर है, लेकिन पानी से भरे तालाब के बीच में होने के कारण अधिकतर लोग इसे रानी तालाब मंदिर या श्री भूतेश्वर मंदिर के नाम से जानते हैं। शहर के मध्य में होने से यह जींद की खास पहचान है। बाहर से आने वाले लोगों में इस मंदिर को देखने के प्रति विशेष आकर्षण रहता है। बावजूद इसके शायद ही किसी बड़ी हस्ती ने जींद दौरे के दौरान यहां आकर पूजा अर्चना की हो, जबकि कुरुक्षेत्र जाने वाले विशिष्ट लोग एक बार देवी भद्रकाली मंदिर या अमृतसर जाने वाले लोग स्वर्ण मंदिर जाकर वहां मत्था जरूर टेकते हैं।