News Description
रोहिंग्या मुद्दे पर देश की सुरक्षा को लेकर भारत का फैसला जायज : इमाम

भारत सरकार द्वारा रो¨हग्या के मुसलमानों को भारत से निकाले जाने को लेकर सुप्रीम कोर्ट में दायर किए गए हलफनामे पर ऑल इंडिया इमाम आर्गेनाइजेशन के राष्ट्रीय सदर चीफ इमाम डा. उमेर अहमद इलयासी ने कहा कि भारत सरकार का ये अंदरुनी मामला है। भारत ने जो फैसला लिया है वे देश की सुरक्षा को देखते हुए लिया है।

उन्होंने कहा कि भारत सरकार को रो¨हग्या के कुछ मुसलमानों पर आतंकवादियों से संबंध होने की जानकारी मिली है। चीफ इमाम पूर्व मुख्य संसदीय सचिव जलेब खां के परिवार को सांत्वना देने के लिए गांव कोट जाते समय नूंह में रुके। यहां उन्होंने पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि बर्मा में इंसानियत का कत्ल हो रहा है जिसे किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं किया जा सकता है। हाल ही में यूनाइटेड नेशन की पीस कमेटी की हॉलैंड में दुनिया भर के धार्मिक और राजनेताओं की बैठक आयोजित की गई थी। 

भारत ने सबसे पहले पारसी, मुगल, अंग्रेज सभी को पनाह दी है, लेकिन अब हालात नाजुक हैं और कुछ रो¨हग्या मुसलमानों पर आतंकवादियों से संबंध होने की जानकारी मिली है। इसलिए देश की सुरक्षा के मद्देनजर भारत ने जो फैसला लिया है वह राष्ट्रहित में है। वहीं उन्होंने दुनिया के देशों से आह्वान करते हुए कहा कि परमाणु हथियारों को नष्ट कर देना चाहिए। अगर तीसरा विश्व युद्ध हुआ तो दुनिया तबाह व बर्बाद हो जाएगी।