News Description
डेरा प्रकरण में नहीं हुई चूक, सब कुछ प्लानिंग से किया-डीजीपी

दुष्कर्म मामले में डेरा प्रमुख गुरमीत राम रहीम को जेल गए 25 दिन बीत गए और उसकी राजदार हनीप्रीत भी तब से ही गायब है। गुरमीत की पेशी के दिन 25 अगस्त को पंचकूला में हुई हिंसा से लेकर हनीप्रीत की फरारी तक पुलिस पर बार-बार अंगुली उठ रही है। बावजूद इसके पुलिस महानिदेशक बीएस संधू को लगता है कि सब कुछ प्लानिंग से हो रहा है और पुलिस जांच सही दिशा में चल रही है। दैनिक जागरण से विशेष बातचीत में डीजीपी संधू ने कई अन्य सवालों के जवाब भी दिए। 


 हमसे कोई चूक नहीं हुई। सरकार को भरोसे में लेकर पूरी प्लानिंग से काम किया। पंचकूला में जमा लोगों को हटाने अथवा पकड़ा-पकड़ी से अधिक जरूरी शांति बहाली थी। अगर गुरमीत राम रही डेरे से नहीं आता तो सैकड़ों जानें जाती।

 गुरमीत राम रहीम के दोषी साबित होने के बावजूद आप उसे हेलीकाप्टर से जेल लेकर गए? 
 उसे सिरसा डेरे से बाहर निकालना, बिना किसी हिंसा के कोर्ट में पेश करना और फिर हेलीकाप्टर से सुनारिया जेल लेकर जाना.... सब स्ट्रेटजी का हिस्सा था। यदि उसे सड़क मार्ग से ले जाते तो सुरक्षा प्रभावित होती।