News Description
ओडीएफ की जांच को लेकर सरकार ने शुरू किया दूसरे चरण का सर्वे

गांवोंके ओडीएफ की जांच को लेकर सरकार ने दूसरे चरण का सर्वे शुरू कर दिया है। मंगलवार को सफीदों हलके के गांव बहादुरगढ़, सिंघपुरा, होशियारपुरा, मलार, बड़ौद, टोडीखेड़ी, सिल्लाखेड़ी आदि करीब 15 गांवों में भिवानी टीम की ओर से सर्वे किया गया। इस सर्वे मेें टीम के निरीक्षक सतीश सदस्य सविता, पंकज, संजय ब्लाक को-आॅर्डिनेटर अनिल कुमार ने गांव-गांव जाकर सर्वे किया। गांवों के स्कूल और आंगनबाड़ी शौचालयों की स्थिति के साथ-साथ आंगनबाड़ी वर्करों स्कूली बच्चों से गांव में खुले में शौच के प्रति जानकारी हासिल कर रिपोर्ट तैयार की गई। टीम का नेतृत्व कर रहे जिला प्रोजेक्ट प्रबंधक सतीश ने बताया कि उक्त गांवों के खुले में शौच मुक्त होने की समीक्षा की। उनकी टीम करीब एक सप्ताह के दौरान जिले के 75 गांवों का सर्वे किया जाएगा। जिसकी रिपोर्ट जल्द ही जिला अधिकारियों को सौंप दी जाएगी। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार हर गांव को खुले में शौच मुक्त बनाने के लिए कटिबद्ध है। जिसके लिए सरकार और पंचायतें प्रयासरत है। 

आंगनबाड़ीवर्करों से भी की गई पूछताछ : गांवसिंघपुरा, बहादुरगढ़ में स्थित आंगनबाड़ी के सर्वे में टीम ने टॉयलेट की सफाई को लेकर पूछताछ भी की गई। सतीश ने कहा कि गांव में एक व्यक्ति भी खुले में शौच करने के लिए जाता है तो गांव को ओडीएफ में शामिल नहीं माना जाएगा। उन्होंंने बताया कि इस सर्वे के लिए किसी भी पंचायत को पहले कोई सूचना नहीं दी जा रही है। सभी गांवों में औचक निरीक्षण किया जा रहा है। इससे गांव की वास्तविक स्थिति का पता चल सकता है। उन्होंने कहा कि सरकार चाहती है कि ओडीएफ को पूर्ण रूप से लागू किया जाए, ताकि ग्रामीण क्षेत्र को बीमारियों से मुक्ति मिल सके। सर्वे टीम के साथ संबंधित गांव के सरपंच अन्य ग्रामीण शामिल रहे