# पाक PM के आरोप पर भारत का पलटवार-टेररिस्तान है पाकिस्तान         # मोदी का वाराणसी दौरा आज, 305 करोड़ से बने ट्रेड सेंटर का करेंगे इनॉगरेशन         # समुद्र में बढ़ेगा भारत का दबदबा, पहली स्कॉर्पिन पनडुब्बी तैयार         # रोहिंग्या विवाद के बीच म्यांमार को सैन्य साजो-सामान दे सकता है भारत         # चीन में सोशल मीडिया पर इस्लाम विरोधी शब्दों के प्रयोग पर लगी रोक         # परवेज मुशर्रफ का दावा-बेनजीर की हत्या के लिए उनके पति जरदारी जिम्मेदार          # भारत ने अफगानिस्तान में 116 सामुदायिक विकास परियोजनाओं की ली जिम्मेदारी         # जम्मू-कश्मीर में दो आतंकी गिरफ्तार, सशस्त्र सीमाबल पर किया था हमला        
News Description
उपायुक्त से वकीलों की वार्ता विफल, डीएसपी के निलंबन की मांग छोड़ने को तैयार नहीं बार

डीएसपी,एसएचओ के निलंबन और वकील के सभी हमलावरों को पकड़ने की मांग को लेकर बार का वर्क सस्पेंड पांचवें दिन में प्रवेश कर गया। मामले को सुलझाने के लिए डीसी सोलन गोयल ने मंगलवार को वकीलों के प्रतिनिधियों से बातचीत की और प्रशासनिक व्यवस्था के तहत हल होने वाली मांगों को मानने के संकेत भी दिए। लेकिन जिले की बार एसोसिएशन डीएसपी का निलंबन के फैसले से कम कुछ भी मानने के लिए तैयार नहीं हुई। धरने पर वकीलों को फैसलों से अवगत कराया, तो सभी ने इस पर असहमति दर्ज करा दी। 

वहीं बहादुरगढ़ में भी वकीलों ने जिला बार के समर्थन में किया वर्क सस्पेंड पंजाब एवं हरियाणा बार कांउसिल से अपना समर्थन देने आए, चेयरमैन एक्शन कमेटी, मेंबर एवं पूर्व वाई चेयरमैन बार काउंसिल ऑफ हरियाणा एवं पंजाब बिजेंद्र अहलावत ने इस पूरे प्रकरण को दुर्भाग्यपूर्ण बताया और डीएसपी के आचरण की निंदा की। एक अधिकारी के रूप में डीएसपी का जो आचरण सुनने को मिला है। वह एक पब्लिक सर्वेंट के रूप में उचित नहीं रहा। इससे पता चलता है कि उनको आम पब्लिक के प्रति कैसा व्यवहार रहा है। वहीं आज दूसरे दिन भी वकीलों का वर्क सस्पेंड, धरना, और भूख हड़ताल जारी रही। धरने के दौरान डीसी ने बातचीत के लिए वकीलों को बुलाया। वकीलों ने यहां भी पुलिस अधिकारियों की पोल खोलने से परहेज नहीं किया। 

^समझौते के मामले में निर्णय इसके लिए अधिकृति कमेटी ही बात करेंगी। कमेटी यदि चाहे तो उनको बैठक में शामिल करे, या ना करें। डीएसपी ने नियमों की अवहेलना की है। उन्होंने झज्जर के प्रबुध लोगों को दो फाड़ करने की नियत से काम किया है। बार ने इस मामले में केस दर्ज करने की मांग की है। साथ ही सीएम को ज्ञापन भेजा गया है। कल आसपास के जिलों की बार से चर्चा होगी, उसके बाद शुक्रवार को प्रदेश की सभी 45 बार के प्रतिनिधि बुलाकर आगे की रणनीति की घोषणा की जाएंगी। देवेंद्रकादियान, बार प्रधान झज्जर