#घाटी में आतंकवाद को नई धार देने की फिराक में हाफिज         # 26/11 जैसे हमलों को रोकने के लिए तैयार भारत, सैटेलाइट के जरिए पकड़े जाएंगे संदिग्ध         # पद्मावती के विरोध में किले में लटका दी लाश, पत्थर पर लिख दी धमकी         # हरियाणा के 13 जिलों में तीन दिन के लिए मोबाइल इंटरनेट सेवाएं बंद         # जनहित याचिकाओं के गलत इस्तेमाल पर सुप्रीम कोर्ट चिंतित, संशोधन पर विचार         # ऑड-ईवन योजना में दिल्ली के साथ NCR के दूसरे शहर भी होंगे शामिल :EPCA         # UP निकाय चुनावों में EVM की विश्वसनीयता पर शत्रुघ्न सिन्हा ने उठाए सवाल         # पाक की बेशर्मी, फूलों से सजी गाड़ी से पहुंचा आतंकी हाफिज, लाहौर में मना जश्न        
News Description
नदी बोर्ड बनाकर दक्षिण हरियाणा में दिलाया जाए पानी

रेवाड़ी : भाजपा व्यवसायिक प्रकोष्ठ के प्रदेश संयोजक सतीश खोला ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर रिवर बो‌र्ड्स एक्ट 1956 की धारा 4 के तहत गंगा और यमुना जैसी अंतरराज्यीय नदियों के लिए नदी बोर्ड बना कर दक्षिणी हरियाणा मे पानी दिलवाने की मांग की है। अपने पत्र में खोला ने बताया है कि इस एक्ट के तहत गंगा और यमुना जैसी अंतरराज्यीय नदियो के लिए नदी बोर्ड बनाने का प्रावधान है।

केंद्र सरकार नदी के प्रवाह क्षेत्र वाले राज्यो के साथ परामर्श कर आम राय से यह बोर्ड बना सकती है। इस कानून के तहत बनने वाले बोर्ड इतने शक्तिशाली होते हैं कि उन्हें जलापूर्ति से लेकर नदियों के प्रदूषण के संबंध मे नियम और दिशानिर्देश बनाने का अधिकार होता है। साथ की बोर्डों को नदियों के किनारे पौधे लगाने, नदी बेसिन के विकास की योजनाएं बनाने और उनके क्रियान्वयन की निगरानी की शक्ति भी हासिल होती है। अभी तक किसी सरकार ने इस कानून को लागू कर नदियों के बोर्ड गठित का जहमत नहीं उठाई है। केंद्र ने 1995 मे एक प्रस्ताव के जरिये अपर यमुना बोर्ड बनाया। इसका काम नदी के जल में राज्यों की हिस्सेदारी तो थी, लेकिन हरियाणा को पानी प्राप्ति को लेकर अभी तक न्याय नही मिला।

द्वितीय प्रशासनिक सुधार आयोग ने भी अपनी रिपोर्ट मे दक्षिण अफ्रीका, फ्रांस, चीन का उदाहरण भी दिया, जहा पानी के बेहतर प्रबंधन के लिए राष्ट्रीय कानून या नदी बेसिन के लिए तंत्र बनाए गए है। ऐसे में रिवर बोर्ड एक्ट को लागू कर दक्षिणी हरियाणा मे आए घोर जल संकट को दूर करने के लिए साहसिक कदम उठाए।