News Description
डॉक्टरों के लिए मूंछ की लड़ाई हड़ताल, विज बोले-लगेगा एस्मा

हरियाणा सिविल मेडिकल सर्विसेज एसोसिएशन के बैनर तले सोमवार से प्रदेशभर के नागरिक अस्पतालों में हड़ताल शुरू करने को लेकर अब डॉक्टर्स और स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज खुद आमने-सामने हो गए हैं। एक ओर जहां हड़ताल डॉक्टरों के लिए मूंछ की लड़ाई बन गई है, वहीं विज ने भी हड़ताल करने वाले डॉक्टरों को खुली चुनौती दे दी है। विज ने हड़ताल पर कड़ा संज्ञान लेते हुए साफ कर दिया है कि अगर कोई भी डॉक्टर मरीजों को छोड़कर हड़ताल पर गया तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। अगर जरूरत पड़ी तो डॉक्टरों पर एस्मा भी लगाया जाएगा, जिसकी जिम्मेदारी खुद डॉक्टरों की होगी।

गौरतलब है कि सोमवार को प्रदेशभर के सभी नागरिक अस्पतालों में डाक्टर्स एसोसिएशन के बैनर तले मुख्य तीन मांगों को लेकर हड़ताल शुरू करने जा रहे है। पहले दिन केवल दो घंटे की ओपीडी बंद रहेगी। वहीं इसके बावजूद अगर मांगे नहीं मानी गई तो 13 सितंबर से ओपीडी पूरे दिन के लिए बंद कर दी जाएगी और केवल इमरजेंसी और पोस्टमार्टम की सेवाएं ही दी जाएंगी। तब भी सरकार ने मांगे नहीं मानी तो 14 सितंबर से ओपीडी, इमरजेंसी, आप्रेशन और पोस्टमार्टम के अलावा अन्य सभी प्रकार की सेवाएं ठप कर दी जाएंगी। इस बारे में जब विज से बात की गई तो उन्होंने साफ कहा कि किसी भी कीमत पर डॉक्टरों को हड़ताल नहीं करने दी जाएगी चाहे इसके लिए उन्हें डॉक्टर्स पर एस्मा ही क्यों न लगाना पड़े। विज ने कहा कि डॉक्टरों की मांगें जायज नहीं है। स्वास्थ्य विभाग लोगों की ¨जदगी से संबंध रखता है इसलिए डॉक्टरों को जनता के जीवन से खिलवाड़ नहीं करने देंगे। सरकार से डॉक्टरों के प्रतिनिध मंडल की बात चल रही है।

एसएमओ के भी खिलाफ हुई एसोसिएशन

वहीं डॉक्टरों की इस हड़ताल को लेकर एचसीएमएच एसोसिएशन अब सरकार के साथ-साथ छावनी नागरिक अस्पताल के एसएमओ सतीश गुप्ता के भी खिलाफ हो गई है। क्योंकि हड़ताल पर जाने वाले डॉक्टरों के खिलाफ एसएमओ ने शनिवार को एक नोटिस जारी किया था जिसके बाद डॉक्टरों में भी आपसी फूट सामने आ गई। एसोसिएशन के पदाधिकारियों का कहना है कि एसएमओ चाहे जो मर्जी नोटिस जारी करे लेकिन वह अपनी मांगों को लेकर हड़ताल पर जरूर जाएंगे। वहीं नोटिस में एसएमओ ने कहा कि अगर कोई चिकित्सक मरीजों को छोड़कर हड़ता पर गया तो उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी जिसकी जिम्मेदारी खुद डॉक्टर की होगी