News Description
एनओसी में किसी प्रकार की देरी बर्दाश्त नहीं : डीसी

उपायुक्तसोनल गोयल ने कहा कि उद्योगों को बढ़ावा देने के लिए प्रदेश सरकार की नीति स्पष्ट है। सभी अधिकारी निर्धारित समय पर अपने अपने विभागों से संबंधित जरूरी एनओसी निर्धारित अवधि में देना सुनिश्चित करें, ताकि समय पर उद्योगपतियों को सुविधाएं प्रदान की जा सकें। 

उपायुक्त लघु सचिवालय में जिला स्तरीय क्लीयरेंस कमेटी की मासिक बैठक की अध्यक्षता कर रही थी। गोयल ने कहा कि जिला में उद्योग लगानेे के इच्छुक व्यक्ति या निवेशक सरकार के पोर्टल पर संबंधित विभागों से क्लीयरेंस के लिए आवेदन करना होगा, जिसके उपरांत विभाग आगामी कार्रवाई करते हुए तय समय सीमा में निवेशक को सुविधाएं प्रदान करेगा। उन्होंने कहा कि उद्योगों को एक छत के नीचे विभिन्न विभागों द्वारा दी जाने वाली एनओसी के मामले में किसी प्रकार की देरी बर्दाश्त नहीं होगी, जिस विभाग से संबंधित एनओसी में अगर कोई मामला उनके संज्ञान में आया तो संबंधित अधिकारी से सख्ती सेे निपटा जाएगा। उपायुक्त ने जिला उद्योग के संयुक्त निदेशक को निर्देश देते हुए कहा कि वे अपने स्तर पर सभी आवेदनों की समीक्षा करेंगे साथ ही संबंधित विभागों से निरंतर समन्वय बना कर प्रक्रिया को अंतिम स्तर पर लाए। इस अवसर पर उद्योग विभाग के संयुक्त निदेशक आर के राणा, नगराधीश विजय सिंह, चीफ फायर आफिसर देवेंद्र कुमार नंदा, बिजली विभाग के कार्यकारी अभियंता, डीएफएससी अशोक शर्मा, डीएफओ सुंदर सांभरिया सहित विभिन्न विभागों के उपस्थित थे