#घाटी में आतंकवाद को नई धार देने की फिराक में हाफिज         # 26/11 जैसे हमलों को रोकने के लिए तैयार भारत, सैटेलाइट के जरिए पकड़े जाएंगे संदिग्ध         # पद्मावती के विरोध में किले में लटका दी लाश, पत्थर पर लिख दी धमकी         # हरियाणा के 13 जिलों में तीन दिन के लिए मोबाइल इंटरनेट सेवाएं बंद         # जनहित याचिकाओं के गलत इस्तेमाल पर सुप्रीम कोर्ट चिंतित, संशोधन पर विचार         # ऑड-ईवन योजना में दिल्ली के साथ NCR के दूसरे शहर भी होंगे शामिल :EPCA         # UP निकाय चुनावों में EVM की विश्वसनीयता पर शत्रुघ्न सिन्हा ने उठाए सवाल         # पाक की बेशर्मी, फूलों से सजी गाड़ी से पहुंचा आतंकी हाफिज, लाहौर में मना जश्न        
News Description
Vमैक में कलाकारों ने ढोलक बाजे मंजीरा बाजे सारंगी सारी रात... गीतों से मचाया धमाल

मल्टीआर्टकल्चरल सेंटर की भरतमुनि रंगशाला में हरियाणा कला परिषद मल्टी आर्ट कल्चरल सेंटर द्वारा हरियाणवी लोक नृत्य एवं गायन प्रतियोगिता कराई गई। भाजपा जिलाध्यक्ष धर्मवीर मिर्जापुर बतौर मुख्यअतिथि और मारकंडा नेशनल कॉलेज शाहाबाद के प्राचार्य अशोक चौधरी विशिष्ट अतिथि रहे। कला परिषद के मुख्य सलाहकार महेश जोशी अतिरिक्त मुख्य सलाहकार संजय भसीन ने सभी अतिथियों का स्वागत किया। महेश जोशी ने बताया कि हरियाणा की लोक संस्कृति को जन-जन तक पहुंचाने के लिए हरियाणा कला परिषद प्रयासरत है। बताया कि प्रदेश के चारों मंडलों की प्रतियोगिताओं में सर्वश्रेष्ठ तीन-तीन प्रतिभागियों को राज्य स्तरीय प्रतियोगिता के लिए चुना जाएगा। राज्य स्तरीय प्रतियोगिता मैके में 16 17 सितम्बर को होगी। जिसमें सीएम मनोहरलाल मुख्य अतिथि होगी। 

50दल पहुंचे प्रस्तुति देने : नृत्यगायन प्रतियोगिता में जूनियर सीनियर कलाकारों के 50 टीम प्रस्तुति देने पहुंची। निर्णायक मण्डल में डा. मुदिता वर्मा, डा. कैलाश वर्मा, प्रीतम पाल सिंह रुपाल, डा. सतीश कौशिक तथा सुरेंद्र तंवर शामिल रहे। कला परिषद के उपाध्यक्ष सुदेश शर्मा भी मौजूद रहे। मंच संचालन विकास शर्मा ने किया। एक ओर गायक कलाकार सुर और ताल के साथ हरियाणवी स्वर लहरियों को छेड़ रहे थे। वहीं नृत्य में महिला एवं पुरुष कलाकारों ने भी अपनी दमदार प्रस्तुतियों से लोगों को थिरकने पर मजबूर कर दिया। हरियाणवी बोली में सजी रागिनियों लोकगीतों के माध्यम से जूनियर सीनियर श्रेणी के गायक कलाकारों ने खूब समां बाधा। नृत्य से दोनों श्रेणियों में कलाकारों ने लोक संस्कृति के रंग बिखेरे। टोकनी पीतल की मै पाणी भरण नै ल्याई, बन्ना तेरे दादा की उंची दुकान, ढोलक बाजे मंजीरा बाजे सारंगी सारी रात, रै गौरी तन्नै देखूंगा तू कितनी सुथरी आई, ढूंगे उपर पड़ी रे तागड़ी, कित गुच्छा कित चाबी, तेरा बीरा गया री ननदी रोसे मैं, तेरे बीरा की मरोड़ मेरे ठोसे पै जैसे लोकगीतों से खूब वाहवाही बटोरी। इस मौके पर हिसार मण्डल के संयोजक लोकेश मोहन खट्टर, अम्बाला मण्डल के संयोजक नागेंद्र शर्मा, रोहतक मण्डल के संयोजक शीशपाल चौैहान आदि भी उपस्थित रहे। 

येरहे विजेता : हरियाणवीलोक गायन प्रतियोगिता की जूनियर श्रेणी में कैथल से अजय, ऋद्धि अम्बाला के अर्जुन चौधरी,नृत्य प्रतियोगिता में मुरलीधर डीएवी स्कूल अम्बाला, डीएवी पब्लिक स्कूल पुण्डरी , सोहन लाल डीएवी गर्ल्स स्कूल अम्बाला विजेता रहे।सीनियर नृत्य प्रतियोगिता में नाद प्रतिष्ठा डांस संस्थान, कुरुक्षेत्र, अमन सैनी यूटीजीग्रुप, कुरुक्षेत्र राजकीय महाविद्यालय, पंचकुला , गायन प्रतियोगिता में श्याम लाल कैथल, दिलावर कौशिक कुरुक्षेत्र तथा सिमरनप्रीत कौर अम्बाला विजेता रहे।