# पाक PM के आरोप पर भारत का पलटवार-टेररिस्तान है पाकिस्तान         # मोदी का वाराणसी दौरा आज, 305 करोड़ से बने ट्रेड सेंटर का करेंगे इनॉगरेशन         # समुद्र में बढ़ेगा भारत का दबदबा, पहली स्कॉर्पिन पनडुब्बी तैयार         # रोहिंग्या विवाद के बीच म्यांमार को सैन्य साजो-सामान दे सकता है भारत         # चीन में सोशल मीडिया पर इस्लाम विरोधी शब्दों के प्रयोग पर लगी रोक         # परवेज मुशर्रफ का दावा-बेनजीर की हत्या के लिए उनके पति जरदारी जिम्मेदार          # भारत ने अफगानिस्तान में 116 सामुदायिक विकास परियोजनाओं की ली जिम्मेदारी         # जम्मू-कश्मीर में दो आतंकी गिरफ्तार, सशस्त्र सीमाबल पर किया था हमला        
News Description
पटवारियों को तय सीमा में रिकॉर्ड बनाने के आदेश

बेरीतहसील का आरक्षण आंदोलन की हिंसा में जला रिकॉर्ड अभी भी दुरुस्त नहीं हुआ है। इससे लोगों को तहसील से दस्तावेज देखने में समस्या रही है। बता दें कि 19 फरवरी 2016 को आरक्षण आंदोलन के दौरान उपद्रवियों ने बेरी तहसील के हल्का बेरी दोपाना, वजीरपुर दूबलधन घिक्यान का माल रिकार्ड, जमाबंदी, शजरा पर्चा शजर नस्ब, गिरदावरी रजिस्टर, सभी फिल्ड बुक नंबर सुमार, इंतकाल अन्य पटवारी से संबंधित कागजात जला दिए गए थे। अब डेढ़ साल से ज्यादा समय बीत जाने के बाद तीनों हल्कों का जमीन संबंधित रिकार्ड दुरुस्त नहीं हो पाया था, जिसके कारण लोगों को दिक्कत बनी हुई थी। 

7 माह से खाली है 

तहसीलदार का पद 

यहीनहीं बेरी तहसील में तहसीलदार का पद 7 माह से खली पड़ा है। तहसील में 40 हलकों के लिए 28 पटवारी होने चाहिए, लेकिन लंबे समय से 18 पटवारी सेवा दे रहेे हैं। बेरी तहसील के पटवारी नवरात्रों केे दौरान मां बेरी वाली केे दरबार में ड्यूटी देते है और मां के चढ़ावे की गिनती करवाते हैं। जिसके कारण तीनों गांवों केे जले हुए रिकार्ड को दोबारा बनवाने में देरी हो रही है