# पाक PM के आरोप पर भारत का पलटवार-टेररिस्तान है पाकिस्तान         # मोदी का वाराणसी दौरा आज, 305 करोड़ से बने ट्रेड सेंटर का करेंगे इनॉगरेशन         # समुद्र में बढ़ेगा भारत का दबदबा, पहली स्कॉर्पिन पनडुब्बी तैयार         # रोहिंग्या विवाद के बीच म्यांमार को सैन्य साजो-सामान दे सकता है भारत         # चीन में सोशल मीडिया पर इस्लाम विरोधी शब्दों के प्रयोग पर लगी रोक         # परवेज मुशर्रफ का दावा-बेनजीर की हत्या के लिए उनके पति जरदारी जिम्मेदार          # भारत ने अफगानिस्तान में 116 सामुदायिक विकास परियोजनाओं की ली जिम्मेदारी         # जम्मू-कश्मीर में दो आतंकी गिरफ्तार, सशस्त्र सीमाबल पर किया था हमला        
News Description
दिव्यांग व अबोध बच्चों को शिक्षित करने वाले शिक्षक हुए सम्मानित

। दिव्यांग व अबोध बच्चों को समाज की मुख्य धारा से जोड़ने वाली
चेतना वेलफेयर सोसायटी ने बुधवार को शानदार तरीके से शिक्षक दिवस मनाया।
जिसमें दिव्यांग बच्चों ने जहां एक ओर देश भक्ति पर शानदार सांस्कृतिक
कार्यक्रम प्रस्तुत किया, वहीं दिव्यांग बच्चे एक दिन के शिक्षक बने। इस
मौके पर शिक्षक बने बच्चों सहित शिक्षिकों को संस्था की ओर से सम्मानित
किया।
सोहना रोड स्थित संजय कालोनी में चेतना वेलफेयर सोसायटी के भवन में
आयोजित कार्यक्रम में समाज सेविका मीनू जैन बतौर मुख्य अतिथि के रूप में
मौजूद थी, जबकि विशिष्ठ अतिथि के रूप में प्रेमा जोशी मौजूद थी। इस मौके
पर सोसायटी के संयोजक आर.डी.शर्मा व अध्यक्षा रेखा शर्मा ने एक ओर स्कूल
की गतिविधियों का प्रकाश डाला, वहीं दूसरी ओर मुख्य अतिथि मीनू जैन का
परिचय कराया। इस दौरान दिव्यांग बच्चों ने पहले शानदार देश भक्ति गीत
प्रस्तुत कर सभी को भाव विभोर कर दिया। इस दौरान दिव्यांग छात्र एक दिन
के बने शिक्षकों व स्कूल के शिक्षिकों को मुख्य अतिथि ने पुरूस्कार देकर
सम्मानित किया। इस मौके पर सोसायटी के संयोजक आर.डी.शर्मा ने शिक्षकों से
कहा कि वह अपनी ईमानदारी व पूर्ण संर्पण के साथ सही दिशा में शिक्षा
प्रदान करें। दिव्यांग व अबोध बच्चों को समाज की मुख्य धारा से जोड़ना
भगवान की सेवा करने से कम नहीं है। इस दौरान संस्था की अध्यक्षा रेखा
शर्मा ने गुरु व शिक्षक का सही धर्म है कि वे किसी भेदभाव के बच्चों को
शिक्षित बनाए। कार्यक्रम के आयोजक कैलाश चंद्र, सुनीता शर्मा, प्रिंसिपल
लता सहित सभी शिक्षिकों व स्टॉफ को सम्मानित किया गया