News Description
शिक्षक के प्रति कृतज्ञता प्रकट करते हुए विद्यार्थियों ने किया नमन

मंगलवार को जिला भर में शिक्षक दिवस धूमधाम से मनाया गया। अपने शिक्षक के प्रति कृतज्ञता प्रकट करते हुए विद्यार्थियों ने उन्हें नमन किया। वहीं शिक्षकों ने भी विद्यार्थियों को संदेश देते हुए कहा कि वे दी जाने वाली शिक्षा का सदुपयोग करते हुए अपने सामाजिक दायित्व का निर्वाह बेहतर ढंग से करें। ताकि समाज के चहुंमुखी विकास में वह भी बढ़ चढ़ कर भर अपनी सहभागिता सुनिश्चित कर पाएं। इसी कड़ी में खातीवास स्थित संस्कारम स्कूल, झज्जर एवं छुछकवास स्थित आरइडी शैक्षणिक संस्थान, साल्हावास स्थित एचडी शैक्षणिक संस्थान, हसनपुर स्थित एमआर शैक्षणिक संस्थान, केएसएम पब्लिक स्कूल, एच आर ग्रीन फील्ड विद्यालय, माजरा स्थित आरसीएम पब्लिक स्कूल सहित अन्य विद्यालयों में धूमधाम से कार्यक्रम का आयोजन करते हुए गुरू की महत्ता का बखान किया गया। होने वाले कार्यक्रम में आधुनिकता का मिश्रण भी दिखाई दिया।

खातीवास स्थित संस्कारम पब्लिक स्कूल में आयोजित कार्यक्रम में संचालक महिपाल ने कहा कि माता पिता के अलावा गुरू ही एकमात्र ऐसा व्यक्तित्व होता है जो कि आपके उत्थान की आपसे अधिक कामना करता है। ऐसे में हमें यह समझना चाहिए और प्रयास रहना चाहिए कि विद्यालय में जो भी पढ़ाया जाए उसे ध्यान पूर्वक अध्ययन करते हुए आगे बढ़े। ताकि प्रतिस्पर्धा के इस दौर में हम स्वयं को पिछड़ा हुआ महसूस नहीं करें। आरइडी शैक्षणिक संस्थान एवं एचडी वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय में भी संस्थान के संचालकों ने आह्वान करते हुए कहा कि अगर विद्यार्थी जीवन में लक्ष्य को निर्धारित करते हुए तैयारी की जाती है तो सफलता मिलना निश्चित है।

बॉक्स : कैंब्रिज इंटरनेशनल स्कूल बिरड़ झज्जर के स्कूल प्रांगण में मंगलवार को शिक्षक दिवस धूमधाम से मनाया गया। विद्यालय प्रबंधक बिमला यादव व प्राचार्य राज ¨सह जाखड़ ने सभी शिक्षकों को शिक्षक दिवस की हार्दिक बधाई दी। इस अवसर पर डा. सर्वपल्ली राधाकृष्णन की शिक्षाओं को याद किया गया। इस मौके पर शिक्षकों की रस्सा-कशी प्रतियोगिता कराई गई। जिसमें जूनियर वर्ग की महिला ¨वग ने विजय प्राप्त की। इसके अलावा विद्यार्थियों की वालीबॉल, कबड्डी, खो-खो व दौड़ की प्रतियोगिताएं कराई गई।

बॉक्स : कबलाना स्थित गंगा इंटरनेशनल स्कूल में अध्यापक दिवस तथा हिन्दी दिवस के अवसर पर गंगोत्री सदन की तरफ से विशेष प्रार्थना सभा का आयोजन किया गया। प्रार्थना सभा का शुभारंभ प्रधानचार्या ऊषा चौहान द्वारा मां सरस्वती की प्रतिमा के समक्ष दीप प्रज्जवलित करके किया। इस दौरान शिक्षक दिवस पर कक्षा तीसरी से पांचवीं के छात्र-छात्राओं ने नृत्य प्रस्तुत किया। वहीं गंगोत्री सदन की ओर से दसवीं व 12वीं के छात्राओं ने लघुनाटिका प्रस्तुत की। कार्यक्रम में मात्राओं का ज्ञान लघुनाटिका आकर्षण का केंद्र रही। कार्यक्रम में मंच का संचालन कक्षा 11वीं की साक्षी व कनिका ने किया। हीं गंगोत्री सदन प्रमुख प्रीति तथा पवन कुमार ने प्रधानाचार्या का आभार प्रकट किया। इसके अतिरिक्त कक्षा 12वीं के विद्यार्थियों ने अध्यापक बनकर कक्षाओं में छात्रों को पढ़ाया। इस मौके पर स्कूल प्रबंधन के अलावा सभी अध्यापकगण मौजूद रहे।

इसी कड़ी में गंगा इंस्टीट्यूट आफ टैक्नोलॉजी एंड मैनेजमेंट कबलाना में शिक्षक दिवस पूरे हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। कार्यक्रम में संस्थान के चेयरमैन डा. सुशील कुमार गुप्ता व निदेशक प्रो. डा. अमन अग्रवाल मौजूद रहे। उन्होंने छात्रों को गुरू शिष्य के अद्वितीय संबंध के बारे में बताया और साथ ही सभी विद्यार्थियों को अपने शिक्षकों द्वारा दिखाए गए मार्ग पर चलने के लिए प्रेरित किया। इस अवसर पर विभिन्न विभागों के विद्यार्थियों ने सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किए। वहीं संस्था में इस मौके पर रजिस्ट्रार विवेक अरोड़ा, सभी विभागाध्यक्ष डा. नीेतू शर्मा, इंजीनियर जो¨गद्र ¨सह, डा. पूनम हुडा, इंजीनियर विवेक खोखर, इंजीनियर जितेंद्र नरवाल, सतेंद्र छिल्लर एवं हास्टल वार्डन मधु ¨सह सहित सभी स्टाफ सदस्य मौजूद रहे।

डीएच लारेंस में विद्यार्थियों ने निभाई शिक्षकों की भूमिका : डीएच लारेंस वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय, झज्जर में शिक्षक दिवस बडी धूमधाम से मनाया गया। जिसमें कक्षा 11 व 12 के विद्यार्थियों ने शिक्षकों की भूमिका निभाई। अध्यापकों की भूमिका का निर्वाह करने वाले निर्णायक मंडल ने उनकी अध्यापन कला का निरीक्षण किया। जिसमें मेघा, साक्षी (11वी साईंस), प्रथम, अंकित (11वी साईंस)द्वितीय और रिया (11वी साईंस), प्रिया (11वी कामर्स) तृतीय स्थान प्राप्त किया। बच्चों ने अध्यापकों के लिए मनोरंजन स्वरूप अनेक कार्यक्रमों का आयोजन किया। जिनमें टेजरहंट, म्यूजिकल चेयर, रिवार्डिग पनीसमैंट, पावर आफॅ ब्लून , बैलून डांस, ब्ला¨स्टग ब्लून आदि खेलों का आयोजन बच्चों के द्वारा किया गया। जिसमें

विजेता अध्यापकों को पुरस्कार दिए गए। पुरस्कृत अध्यापक, संजय , उमेश-दीपिका , उमेश, मीनू, वीना, शर्मिला, आरती, मीनाक्षी व मंजू रहे। बच्चों व अध्यापकों ने खेलों का पूरी तरह लुत्फ उठाया। अंत में विद्यालय के संस्थापक रमेश रोहिल्ला, व्यवस्थापक यमन रोहिल्ला व प्रधानाचार्य कुलताज सिहं ने शिक्षक दिवस पर अध्यापकों को अपने अध्यापक कार्य को केवल व्यवसाय से न जोडकर उसे अपनी पूर्ण निष्ठा व ईमानदारी से निर्वाह करने के लिए प्रोत्साहित किया व उनके स्वस्थ व उज्जवल भविष्य की कामना की।

बॉक्स : एसएफएस स्कूल में मंगलवार 5 ¨सतम्बर को स्कूल प्रांगण में शिक्षक दिवस मनाया गया। कक्षा 10 के छात्रों द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया गया। जिसमें प्रार्थना नृत्य प्रस्तुत किया गया। समारोह का मुख्य आकर्षण रहा नाट्य प्रस्तुति जो अध्यापक का कोई विकल्प नहीं थीम पर आधारित था। कार्यक्रम के पश्चात अध्यापकों व छात्र-छात्राओं के मध्य बास्केट बॉल व रस्सा-कशी जैसे मनोरंजक खेलों का आयोजन किया गया जिसमें छात्रों व अध्यापकों ने बढ़-चढ़ कर भाग लिया। स्कूल प्रशासन की ओर से अध्यापकों को पुस्तक वितरित की गई। इस अवसर पर स्कूल प्रबंधन की ओर से सामूहिक भोज का आयोजन किया गया। कार्यक्रम के अंत में प्राचार्य महोदय ने विद्यार्थियों को षिक्षकों का सम्मान करने से संबंधित अपने विचार प्रस्तुत किए।

----------------

दुर्गा पब्लिक स्कूल महराना में शिक्षक दिवस के अवसर पर डा. ‌र्स्वपल्ली राधाकृष्ण का जन्मदिन धूमधाम से मनाया गया। बच्चों ने इस अवसर पर कई रंगारंग कार्यक्रम प्रस्तुत किए व स्कूल संचालक मास्टर रामचंद्र शर्मा, मुख्याध्यापक दयानंद शर्मा द्वारा इस अवसर पर सभी अध्यापकों को स्मृति चिन्ह देकर उन्हें सम्मानित किया गया। संचालक रामचंद्र शर्मा ने सभी अध्यपकों को कठोर मेहनत करके डा. ‌र्स्वपल्ली राधा कृष्ण जैसे मेहनती व ईमानदार बनने की प्ररेणा दी।

--------------

वैदिक कन्या वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय आर्य समाज मंदिर व किड्ज शैशव स्कूल में शिक्षक दिवस मनाया गया। छोटे-छोटे बच्चों ने अपनी शिक्षकों का अभिनय करते हुए कविताएं प्रस्तुत की। शिक्षक व शिक्षा के महत्व को दर्शाते हुए नाटक प्रस्तुत किए गए। प्रधानाचाया्र उषा गहलोत ने बच्चों को शिक्षक-दिवस के बारे में बताया कि 5 सितंबर को स्वामी राधाकृष्णन के जन्मदिवस के अवसर पर शिक्षक दिवस मनाया जाता है। वे एक महान विद्वान व शिक्षक थे। बाद में वे भारत के प्रथम उपराष्ट्रपति और उसके पश्चात राष्ट्रपति बने। उन्होंने कहा कि शिक्षक समाज के लिए रीढ की हड्डी है। इसलिए गुरु का स्थान भगवान, माता-पिता से भी बढ़कर बताया गया है।वे हर विद्यार्थी के लिए प्रेरणा स्त्रोत होते हैं। इस अवसर पर समस्त विद्यालय स्टाफ व विद्यार्थी मौजूद रहे।

--------------

श्री साई बाबा शिक्षण महाविद्यालय जंहागीरपुर हवन यज्ञ करके नव सत्र का शुभारंभ किया गया। हवन कार्य आचार्य शतक्रतु, आचार्य अर¨वद व तरूण द्वारा संपन्न किया गया। इस अवसर पर शिक्षण महाविद्यालय के निदेशक बिजेंद्र उर्फ जयपाल प्रधान, सचिव भीमसेन व शहीद मुंशीराम मेमोरियल एजुकेशन सोसायटी के सभी पदाधिकारी व सदस्य शिक्षण महाविद्यालय के प्राचार्य

सुरेंद्र व स्टाफ के अन्य सभी सदस्य उपस्थित रहे