News Description
मातनहेल पाठशाला को मिला स्वच्छ स्कूल का अवाॅर्ड

झज्जर जिला की राजकीय प्राथमिक पाठशाला, मातनहेल को मानव संसाधन विकास मंत्रालय, भारत सरकार की ओर से स्वच्छ भारत-स्वच्छ विद्यालय के तहत राष्ट्रीय स्कूल स्वच्छता पुरस्कार प्राप्त हुआ है। उपायुक्त सोनल गोयल ने शिक्षक दिवस के अवसर पर राजकीय प्राथमिक पाठशाला, मातनहेल की इस उपलब्धि को जिला के लिए गौरवमयी बताया और पुरस्कार के लिए स्कूल के स्टाफ को सम्मानित भी किया। राष्ट्रीय स्कूल स्वच्छता पुरस्कार के साथ जिला मौलिक शिक्षा अधिकारी वेदपाल दौलता, राजकीय प्राथमिक पाठशाला, मातनहेल के मुख्य शिक्षक सतीश कुमार, पूर्व मुख्य शिक्षिका सविता कुमारी ने मंगलवार को उपायुक्त सोनल गोयल से भेंट कर इस उपलब्धि की जानकारी दी। उपायुक्त ने कहा कि स्वच्छता की जीवन के सभी पहलुओं में महत्वपूर्ण भूमिका रहती है। शिक्षा के साथ-साथ बच्चों में स्वच्छता के संस्कार देने में राजकीय प्राथमिक पाठशाला, मातनहेल की उपलब्धि जिला के अन्य स्कूलों के लिए भी प्रेरणा देने का कार्य करेगी। जिला मौलिक शिक्षा अधिकारी वेदपाल दौलता, पाठशाला के मुख्य शिक्षक सतीश कुमार छात्रा खुशी ने एक सितंबर, 2017 को नई दिल्ली में केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री श्री प्रकाश जावड़ेकर से राष्ट्रीय स्कूल स्वच्छता पुरस्कार ग्रहण किया। 

प्रशंसा पत्र 50 हजार रुपए की राशि मिली 

इसपुरस्कार के लिए देश के 2,68,000 स्कूलों ने आवेदन किया था। पुरस्कार के विभिन्न मापदंडों को राजकीय प्राथमिक पाठशाला, मातनहेल सहित 172 स्कूलों ने पूरा किया। केंद्रीय मंत्री ने राजकीय प्राथमिक पाठशाला, मातनहेल को प्रशंसा पत्र 50 हजार रुपए की राशि प्रदान की