News Description
खंभों की खुली पड़ी तारें दे रहे हादसों को न्योता,बच्चे की मौत के बावजूद भी नहीं संभला नगर निगम

जून में स्ट्रीट लाइट से निकलने वाले िबजली की तार की वजह से एक बच्चे की मौत हुई थी। हैरानी की बात यह है कि उसके बावजूद भी नगर निगम संभला नहीं है और ही शहर में लगे हुए स्ट्रीट लाइटों के खंभों को ठीक किया गया है।

ऐसे में आने वाले दिनों में लोग हादसे के शिकार हो सकते हैं। शहर के अधिकतर डिवाइडिंग रोड्स की बात हो या फिर सेक्टरों की अँंदरूनी रोड्स अधिकतर जगहों पर स्ट्रीट लाइट के खंभों के जंक्शन बॉक्स खुले हुए हैं। यहां तक कि कई सेक्टरों के पार्कों में लगे हाई मास्ट लाइट के खंभे का जंक्शन बॉक्स खुला हुआ है और ऐसे में पार्क में रोजाना सैर करने वाले लोग भी हादसे का शिकार हो सकते हैं। लोगों की मानें तो हादसे के बाद नगर निगम की ओर से खानापूर्ति के लिए कार्रवाई किया जाता है। वहीं, जब इस मामले में नगर निगम के एक्सईएन एसई से बात करने की कोशिश की गई तो उन्होंने फोन नहीं उठाया। मेयर उपिंदर आहलुवालिया ने बताया कि इलेक्ट्रिकल विंग के अधिकारियों को स्ट्रीट लाइटों के जंक्शन बॉक्स को कवर करने को कहा गया था। फिर भी अगर जंक्शन को नहीं ढंका गया है तो उसे ठीक करवाया जाएगा।

सेक्टर 12/12ए की डिवाईडिंग रोड से लेकर सेक्टर 7/18 की डिवाइडिंग रोड पर लगी हुई स्ट्रीट लाइटों के खंभों में से आधे से ज्यादा खंभों के जंक्शन बॉक्स खुले हुए हैं और उसमें नंगी तारें निकल रही हैं। इसके अलावा सेक्टर 18/17 डिवाइडिंग रोड से लेकर सेक्टर 1/2 की डिवाइडिंग रोड तक की सड़क पर भी कई स्ट्रीट लाइटों के खंभों का जंक्शन बॉक्स खुला हुआ है। हैरानी की बात यह है कि नगर निगम के इस लापरवाही पर जिला प्रशासन की ओर से भी कोई सुध नहीं ली जा रही है।