#घाटी में आतंकवाद को नई धार देने की फिराक में हाफिज         # 26/11 जैसे हमलों को रोकने के लिए तैयार भारत, सैटेलाइट के जरिए पकड़े जाएंगे संदिग्ध         # पद्मावती के विरोध में किले में लटका दी लाश, पत्थर पर लिख दी धमकी         # हरियाणा के 13 जिलों में तीन दिन के लिए मोबाइल इंटरनेट सेवाएं बंद         # जनहित याचिकाओं के गलत इस्तेमाल पर सुप्रीम कोर्ट चिंतित, संशोधन पर विचार         # ऑड-ईवन योजना में दिल्ली के साथ NCR के दूसरे शहर भी होंगे शामिल :EPCA         # UP निकाय चुनावों में EVM की विश्वसनीयता पर शत्रुघ्न सिन्हा ने उठाए सवाल         # पाक की बेशर्मी, फूलों से सजी गाड़ी से पहुंचा आतंकी हाफिज, लाहौर में मना जश्न        
News Description
आपदा प्रबंधन विषय पर एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन

    जिला बाल संरक्षण समिति की ओर से लघु सचिवालय के सभागार में पोक्सो एक्ट और आपदा प्रबंधन विषय पर एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया गया। कार्यशाला में बाल श्रमिक स्कूल शिवनगर, मदर टेरेसा के सदस्यों व बच्चों से सम्बंधित समाजसेवी संस्थाओं के सदस्यों ने भाग लिया। 
 
    कार्यशाला को सम्बोधित करते हुए आपदा प्रबंधन शोध अधिकारी मिनाक्षी ने कहा कि आपदाओं के कारण प्रति वर्ष देश में सैकड़ों व्यक्तियों की जान चली जाती है और करोड़ो रूपये की सम्पत्ति की हानि भी होती है। भले ही आपदाएं बिना सूचना के आ जाती हों यदि लोग आपदाओं से पूर्व प्रशिक्षण लिए हुए हों तो इन आपदाओं से होने वाली हानि के आकड़ों को निश्चित रूप से कम किया जा सकता है। इसलिए समय-समय पर ऐसी कार्यशालाओं का आयोजन करके आपदा प्रबंधन के बारे में लोगों को ओर अधिक जागरूक किया जाना चाहिए। इसलिए जिला बाल संरक्षण समिति की ओर से किया गया यह प्रयास आपदा प्रबंधन के क्षेत्र में मील का पत्थर साबित होगा। 
 
     उन्होंने कहा कि प्राकृतिक आपदाओं में भूकम्प, बाढ व सुनामी जैसी समस्याएं आती है। अनेक बार मानवीय भुलों के कारण भी प्राकृतिक आपदा जैसी स्थिति उत्पन्न हो जाती है जिससे बचने के लिए समय से पूर्व लोगों को जागरूक किया जाना जरूरी है। कार्यशाला को सम्बोधित करते हुए जिला रैडक्रास समिति की प्राथमिक सहायता अधिकारी मीना कुमारी ने आपदा प्रबंधन व अन्य आपदाओं के दौरान पीडि़त व्यक्तियों को किस प्रकार स्वास्थ्य लाभ देकर उनकी जान बचाई जा सकती है के विषय पर प्रकाश डालते हुए कहा कि प्राथमिक चिकित्सा के बारे में लोगों को जागरूक करना वर्तमान समय की सबसे बड़ी जरूरत है।