News Description
दुष्कर्मी बाबा को सजा सुनाते ही डेरा समर्थकों में छाई मायूसी

सीबीआईकोर्ट द्वारा दुष्कर्मी बाबा राम रहीम को सजा सुनाने के बाद डेरा प्रेमियों में मायूसी छा गई। कुछ प्रेमियों ने विरोध करने के लिए एक दूसरे के पास फोन भी किया, लेकिन जवाब मिला कि अभी चुप रहने में ही भलाई है। डेरा प्रेमियों द्वारा कुछ हिंसा करने की आशंका के चलते पुलिस प्रशासन की ओर से जिले में दिनभर सुरक्षा चाक चौबंद रखी गई। नामचर्चा घरों उनके आसपास में भारी पुलिस बल तैनात रहा। फैसला आने के बाद तो जिस एरिया में डेराप्रेमी ज्यादा बसते हैं उनमें गश्त आदि बढ़ाकर शांति की अपील की गई। मगर जिले में सोमवार को पूरी तरह से शांति बनी रही। स्कूल कॉलेज समेत लगभग सभी शिक्षण संस्थान बंद रहे। जबकि सभी सरकारी कार्यालय खुले रहे। जिला अधिकारियों को भी मुख्यालय छोड़ने के आदेश दिए गए थे, ऐसे में वे अपनी ड्यूटी पर तैनात रहकर पलपल की जानकारी जुटाते दिखाई दिए। 

हरनाके पर चेकिंग 

बाबाराम रहीम को रोहतक जेल में सजा सुनाए जाने को लेकर कहीं डेराप्रेमी भड़क जाएं और जिला में कानून व्यवस्था बिगड़ जाए, इसके लिए पुलिस प्रशासन की ओर से व्यापक इंतजाम किए गए थे। जिलेभर में पैरामिलिट्री पुलिस जवानों को तैनात किया गया था और मुख्य नाकों पर वीडियोग्राफी कराई जा रही थी। ड्यूटी मजिस्ट्रेटों की देखरेख में हर नाकों पर तैनात जवान वाहनों यात्रियों के सामान की जांच करते रहे। विशेषकर जींद से रोहतक की ओर जाने वाली गाड़ियों की चेकिंग के लिए स्पेशल अभियान चलाया गया। यहां तक की महिला यात्रियों से पूछताछ की गई कहीं वे डेरा समर्थक तो नहीं हैं और रोहतक तो नहीं जा रही। हालांकि इस दौरान कुछ यात्रियों वाहन चालकों ने पुलिस की इस कार्रवाई को बेवजह परेशान करना बताया। 

जींद. जींद-रोहतकनाके पर वाहनों की चेकिंग करती पुलिस। 

संदिग्ध महिलाओं की भी महिला पुलिस नेे तलाशी ली 

रेलवेस्टेशनों, गुरुद्वारों, बस स्टैंडों अन्य सार्वजनिक इमारतों, स्थलों की सुरक्षा व्यवस्था को और कड़ी करते हुए यहां अतिरिक्त पुलिस एवं सैन्य बल तैनात किया गया है। प्रशासन की ओर से नाम चर्चा घरों को खाली करवाकर वहां पर्याप्त सुरक्षा बल तैनात किया गया है। गुरु द्वारों पर सिख समुदाय के लोगों द्वारा जहां खुद पहरा दिया जा रहा है वहीं यहां हरियाणा पुलिस के जवानों की तैनाती भी की गई है। जिला की सीमाओं पर नाके लगाकर पुलिस फोर्स जवानों के साथ महिला पुलिस कर्मियों की ड्यूटियां भी लगाई गई, जो संदिग्ध महिलाओं की तलाशी लेती रही। 

कुछ लोगों ने सजा को कम बताया तो कुछ बोले- उम्रकैद होनी चाहिए 

सोमवारको सुनारिया रोहतक जेल में बाबा राम रहीम को सजा सुनाने की खबर को लेकर हर कोई उत्सुक रहा। मगर इंटरनेट सेवाएं ठप होने की वजह से अपडेट जानकारी नहीं मिल पा रही थी। दोपहर बाद तो लोग अपने घरों दफ्तरों में टीवी के आगे बैठ गए और सजा के फैसले का इंतजार करते रहे। जैसे ही फैसला आया तो एक दूसरे ने इस विषय पर खूब चर्चा की। कुछ लोगों ने सजा को कम बताया तो कुछ ने कहा कि ऐसे ढोंगी को तो उम्रकैद होनी चाहिए थी। 

जींद. पुलिसलाइन में पुलिस फोर्स जवानों को ब्रीफ करते एसपी अरुण कुमार। फोटो| भास्कर 

दिनभर भटकते रहे यात्री 

सोमवारको भी किसी भी प्रकार हिंसा की आशंका को देखते हुए रेल बस सेवाओं को पूरी तरह से ठप रखा गया। इससे दिनभर यात्री भटकते रहे। जींद जंक्शन से होकर गुजरने वाली अप डाउन की करीब 80 गाड़ियां रद रही। इसी प्रकार जींद, नरवाना सफीदों डिपो की बसों के पहिए थमे रहे। सुबह जींद से एक बस को नरवाना के लिए रवाना किया गया था, उसके बाद सभी बसों को रोक दिया गया। रोडवेज महाप्रबंधक एमएस खर्ब ने बताया कि किसी भी प्रकार के उपद्रव भड़क जाए और शरारती तत्व सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचा दें, इसको लेकर जिला में बसों को नहीं चलाया गया। अब विभाग निदेशालय से जैसे आदेश आएंगे उसके हिसाब से बसों का आवागमन शुरू कराया जाएगा