News Description
नंद के आनंद भयो जय कन्हैया लाल की...

शिक्षा प्रारम्भ से पूर्व विवाह से पहले, गृह प्रवेश के समय युद्ध संकट के समय हमेशा भगवान गणेश की पूजा की जाती है। साध्वी मीरा समदर्शिनी ने भगवान विष्णु के चौबीस अवतारों का वर्णन किया और बताया कि भगवान के चौबीसों अवतार वंदनीय है पर मानव चरित्र से जुड़े केवल दो ही अवतार हैं। राम अवतार श्रीकृष्ण अवतार। इसके पश्चात देवी जी ने राम जन्म कृष्ण जन्म की कथा का वर्णन किया एवं भक्तों ने मिलकर नंदोत्सव मनाया। देवी जी के भजनों को सुनकर भक्त झूम उठे। साध्वी ने नंद बाबा के भऐ नंदलाल, लाला की सुनके मैं आई, नंद के आनंद भयो जय कन्हैया लाल की भजनों को सुनाकर भक्तों को नाचने पर मजबूर कर दिया। 

कथा केे मुख्य यजमान के रूप में पूर्व नगर पार्षद रोहताश सिंगला, समाजसेवी बलविन्द्र धीमान, सनातन धर्म शिक्षा समिति के पूर्व प्रबंधक रोशन मित्तल नरेश जैन ने पूजा अर्चना करवाई। कार्यक्रम के दौरान मीरा समदर्शिनी ने उन मेधावी बच्चों को भी सम्मानित किया जिन्होंने शिक्षा खेलों के क्षेत्र में नरवाना नगर का नाम रोशन किया। महाराज श्री ने उन गौसेवकों की टीम को भी अपना आशीर्वाद दिया जो श्री कृष्णा गौशाला में सेवा करते हैं। इस अवसर पर जियालाल गोयल, सज्जन सिंगला, पूर्व प्रधान भारत भूषण गर्ग, बिजेंद्र सिंह सुरजेवाला, जगरूप सुरजेवाला, सुधीर गुप्ता, अनिल गुप्ता, राजीव, ओमप्रकाश सिंगला, पूर्व प्रधान जयदेव बंसल आदि सहित नगर के अनेक गणमान्य लोग उपस्थित रहे