# पाक PM के आरोप पर भारत का पलटवार-टेररिस्तान है पाकिस्तान         # मोदी का वाराणसी दौरा आज, 305 करोड़ से बने ट्रेड सेंटर का करेंगे इनॉगरेशन         # समुद्र में बढ़ेगा भारत का दबदबा, पहली स्कॉर्पिन पनडुब्बी तैयार         # रोहिंग्या विवाद के बीच म्यांमार को सैन्य साजो-सामान दे सकता है भारत         # चीन में सोशल मीडिया पर इस्लाम विरोधी शब्दों के प्रयोग पर लगी रोक         # परवेज मुशर्रफ का दावा-बेनजीर की हत्या के लिए उनके पति जरदारी जिम्मेदार          # भारत ने अफगानिस्तान में 116 सामुदायिक विकास परियोजनाओं की ली जिम्मेदारी         # जम्मू-कश्मीर में दो आतंकी गिरफ्तार, सशस्त्र सीमाबल पर किया था हमला        
News Description
किडनैप बच्ची को तलाशने पहुंची पुलिस को कमरे में बंद मिली दो किशोरी, दुल्हन बनाकर बेचते थे आरोपी,

रोहतक.आसाम से अपहरण की गई एक बच्ची को गुप्त सूचना के आधार पर कलानौर तलाशने आई वहां की पुलिस को मानव तस्करी व वेश्यावृति के एक बड़े गिरोह के सुराग हाथ लगे हैं। अपहृत बच्ची तो पुलिस को कलानौर में नहीं मिली, लेकिन उन्हें छापेमारी में एक कमरे में बंद दो किशोरियां मिली, जिन्हें पुलिस ने छुड़वा लिया। इनमें एक की उम्र 15 वर्ष और दूसरी की 17 वर्ष है। वहां मौजूद लोग फरार हो गए। दोनों किशोरियों का मेडिकल करवाने के बाद उन्हें बाल कल्याण समिति की न्यायिक पीठ द्वारा बहादुरगढ़ में बाल देखभाल संस्थान (सीसीआई) में रेफर कर दिया गया है। प्राथमिक पूछताछ में एक किशोरी ने बड़े गिरोह का खुलासा करते हुए बताया कि 3-4 महिलाएं उसे दबाव में लेकर अलग-अलग जगह शादी करवाती है और उसके बाद उन्हें जेवर आदि समेटकर वहां से आ जाने को कहा जाता है। उसके बाद उनकी दूसरी जगह शादी करवा दी जाती है। कलानौर में उन्हें 3-4 दिन पहले लाया गया था और रात में उनसे गलत काम करवाया जाता। छापेमारी के दौरान कलानौर पुलिस को शामिल नहीं किया गया। यदि दोनों राज्यों की पुलिस में समन्वय होता तो शायद आरोपी भी पकड़े जाते। प्रदेश के कई जिलों में इस तरह की वारदात हो चुकी है, जिसमें बाहर प्रदेश से लाई गई युवतियां शादी के चंद दिनों बाद ही जेवर समेटकर फरार हो जाती हैअपहृत बच्ची तो पुलिस को कलानौर में नहीं मिली, लेकिन उन्हें छापेमारी में एक कमरे में बंद दो किशोरियां मिली, जिन्हें पुलिस ने छुड़वा लिया। इनमें एक की उम्र 15 वर्ष और दूसरी की 17 वर्ष है। वहां मौजूद लोग फरार हो गए। दोनों किशोरियों का मेडिकल करवाने के बाद उन्हें बाल कल्याण समिति की न्यायिक पीठ द्वारा बहादुरगढ़ में बाल देखभाल संस्थान (सीसीआई) में रेफर कर दिया गया है। प्राथमिक पूछताछ में एक किशोरी ने बड़े गिरोह का खुलासा करते हुए बताया कि 3-4 महिलाएं उसे दबाव में लेकर अलग-अलग जगह शादी करवाती है और उसके बाद उन्हें जेवर आदि समेटकर वहां से आ जाने को कहा जाता है। उसके बाद उनकी दूसरी जगह शादी करवा दी जाती है। कलानौर में उन्हें 3-4 दिन पहले लाया गया था और रात में उनसे गलत काम करवाया जाता। छापेमारी के दौरान कलानौर पुलिस को शामिल नहीं किया गया। यदि दोनों राज्यों की पुलिस में समन्वय होता तो शायद आरोपी भी पकड़े जाते। प्रदेश के कई जिलों में इस तरह की वारदात हो चुकी है, जिसमें बाहर प्रदेश से लाई गई युवतियां शादी के चंद दिनों बाद ही जेवर समेटकर फरार हो जाती है