# पाक PM के आरोप पर भारत का पलटवार-टेररिस्तान है पाकिस्तान         # मोदी का वाराणसी दौरा आज, 305 करोड़ से बने ट्रेड सेंटर का करेंगे इनॉगरेशन         # समुद्र में बढ़ेगा भारत का दबदबा, पहली स्कॉर्पिन पनडुब्बी तैयार         # रोहिंग्या विवाद के बीच म्यांमार को सैन्य साजो-सामान दे सकता है भारत         # चीन में सोशल मीडिया पर इस्लाम विरोधी शब्दों के प्रयोग पर लगी रोक         # परवेज मुशर्रफ का दावा-बेनजीर की हत्या के लिए उनके पति जरदारी जिम्मेदार          # भारत ने अफगानिस्तान में 116 सामुदायिक विकास परियोजनाओं की ली जिम्मेदारी         # जम्मू-कश्मीर में दो आतंकी गिरफ्तार, सशस्त्र सीमाबल पर किया था हमला        
News Description
कर्मचारियों की बहाली की मांग के लिए श्रमिक संगठनों ने रोहतक लघु सचिवालय को घेरा

रोहतक। कुछ कर्मचारियों को बहाल करने की मांग को लेकर आंदोलन कर रहे आइसिन कंपनी के लगभग ७०० कर्मचारी अपने परिवारों के साथ मंगलवार को सड़कों पर उतर आए। कर्मचारियों ने रोहतक लघु सचिवालय के बाहर जमकर रोष प्रदर्शन किया और लघुसचिवालय को घेर दिया। कर्मचारियों को उग्र तेवरों को देखते हुए बड़ी संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया है। बता दें, कर्मचारी ३ मई से हड़ताल पर हैं।
कर्मचारियों का कहना है कि आंदोलन को लेकर तमाम कर्मचारी संगठनों का भी समर्थन मिला है। प्रदर्शन में कर्मचारी संगठन भी शामिल हैं। मंगलवार को कर्मचारियों का आंदोलन २१वें दिन में प्रवेश कर गया है लेकिन उनकी मांगें पूरी नहीं हुई है। कर्मचारियों को कहना है कि जब तक उनकी मांगें पूरी नहीं होंगी तब तक उनका आंदोलन जारी रहेगा।
उधर, कंपनी प्रबंधन का कहना है कि जिन कर्मचारियों को हटाया गया है उनमें से १५ की एक साल की ट्रेनिंग पूरी हो चुकी थी, जबकि पांच का कार्य संतोषजनक नहीं पाया गया था। कर्मचारियों का कहना है कि कंपनी प्रबंधन ने बिना किसी नोटिस के ही २० कर्मचारियों को निकाल दिया था। उन्हीं की बहाली की मांग को लेकर कंपनी के लगभग ७०० कर्मचारियों ने एकजुट होकर यह आंदोलन शुरू किया है, जिनमें लगभग ५० महिला कर्मचारी भी शामिल हैं। उनका कहना है कि उनकी सभी मांगें जायज हैं तथा तीन मई से शुरू हुआ यह आंदोलन तब तक जारी रहेगा जब तक उनकी मांगें पूरी नहीं होंगी।