News Description
बुटाना ब्रांच नहर में पहुंचा 4200 क्यूसिक पानी

कस्बे के पानीपत मार्ग पर गोहाना मोड़ पर बुटाना ब्रांच नहर में क्षमता के अनुसार सबसे अधिक पानी बह रहा है। इसको लेकर सोमवार को चंडीगढ़ से एक टीम ने आकर जायजा लिया। नहर में हाल 4200 क्यूसिक पानी बह रहा है, जो नहर का अधिकतम स्तर आंका गया है। इससे लोगों को पहले से ही खस्ता हुए नहर पुल के टूटने का डर हो गया है। 

कभीभी हो सकता है हादसा 

पुलकी कम चौड़ाई की वजह से दीवारें पहले ही गिर चुकी हैं। किसी भी समय कोई भी हादसा हो सकता है। एक तरफ पुल की चौड़ाई कम है, उस पर पुल की दीवारें भी टूटी हुई और नहर में अधिकतम स्तर पर पानी बहना लोगों के लिए आफत बन सकता है। शहरवासी विनोद, रामफल, सतपाल, अश्विनी मंगतराम आदि लोगों ने मांग की है कि इस पुल के दायरे को बढ़ाया जाए, ताकि पुल से दो गाड़ियां आराम से निकल सके और जाम की स्थिति से छुटकारा मिल सके। 

पानी का अधिकतम स्तर, पर लोग घबराएं नहीं 

^बुटानाब्रांच नहर का पानी रोहतक, भिवानी और हिसार तक जाता है। आज भी विभाग की एक टीम पानी का स्तर जांचने के लिए यहां पहुंची है। अभी नहर को कोई खतरा नहीं है। पानीपत मार्ग के पुल की ऊंचाई कुछ कम होने के कारण पानी पुल के पास पहुंचा है, जिससे पानी का स्तर भी अधिक दिखाई दे रहा है। इससे लोगों को घबराने की जरूरत नहीं है। पानी को लेकर सिंचाई विभाग पूरी तरह से सचेत है। केएसमाहला एक्सईएन सिंचाई विभाग सफीदों। 

अक्टूबर में होगा निर्माण कार्य शुरू : अर्जुन सिंह 

^यहपुल काफी पुराना है, जिसे देखते हुए विभाग ने यहां नया पुल बनाने का प्रपोजल पास कर दिया है। जैसे ही पानी बंद होगा, अक्टूबर माह मेें निर्माण कार्य शुरू करवाया जा सकेगा। इस पुल को बनाने के लिए सवा तीन करोड़ रुपए का एस्टीमेट पास हो चुका है। यह 5 मीटर चौड़ा है, अब नया पुल 12 मीटर चौड़ा बनाया जाएगा और करीब एक फूट ऊपर करके बनाएंगे, ताकि पुल पर पानी का असर हो सके। यह पुल अभी पूरी तरह से मजबूत है। इसके टूटने जैसी कोई बात नहीं है। फिर भी विभाग इसे जल्द ही तैयार करने की कोशिश में है। अर्जुनसिंह एसडीओ बीएडंआर सफीदों