# पाक PM के आरोप पर भारत का पलटवार-टेररिस्तान है पाकिस्तान         # मोदी का वाराणसी दौरा आज, 305 करोड़ से बने ट्रेड सेंटर का करेंगे इनॉगरेशन         # समुद्र में बढ़ेगा भारत का दबदबा, पहली स्कॉर्पिन पनडुब्बी तैयार         # रोहिंग्या विवाद के बीच म्यांमार को सैन्य साजो-सामान दे सकता है भारत         # चीन में सोशल मीडिया पर इस्लाम विरोधी शब्दों के प्रयोग पर लगी रोक         # परवेज मुशर्रफ का दावा-बेनजीर की हत्या के लिए उनके पति जरदारी जिम्मेदार          # भारत ने अफगानिस्तान में 116 सामुदायिक विकास परियोजनाओं की ली जिम्मेदारी         # जम्मू-कश्मीर में दो आतंकी गिरफ्तार, सशस्त्र सीमाबल पर किया था हमला        
News Description
1400 रुपए प्रति क्विंटल बाजरे की मांग, तहसीलदार को सौंपा ज्ञापन

 भारतीय किसान संघ की पाल्हावास ईकाई की ओर से बाजरे की न्यूनतम समर्थन मूल्य 1400 रुपए प्रति क्विंटल 10 सितंबर तक तैयारी पूरी करने को लेकर तहसीलदार को ज्ञापन सौंपा गया। इसका नेतृत्व संघ के खंड जाटूसाना उपाध्यक्ष अनिल आर्य पाल्हावास ने किया। 

आर्य ने ज्ञापन में कहा कि पिछले साल बाजरे का एमएसपी 1330 रुपए प्रति क्विंटल था, लेकिन सरकार द्वारा खरीद नहीं की गई। इससे किसानों को मजबूरी में व्यापारियों को ही औने-पौने दामों पर बाजरे की बिक्री करनी पड़ी थी। उन्होंने कहा कि ऐसी घोषणाएं किसानों के लिए महज छलावे से कम नहीं है। उन्होंने कहा कि सरकार की ओर से जब तक बाजरे की एमएसपी रेट पर खरीद शुरू नहीं की जाएगी, तब तक गांवों में खंड तहसील स्तर पर प्रदर्शन किए जाते रहेंगे। उन्होंने कहा कि अगर उसके बाद भी सरकार ने ध्यान नहीं दिया तो जिला स्तर पर बड़ा विरोध प्रदर्शन किया जाएगा। ज्ञापन में सरकार को खरीद के लिए तैयारी करने बारे 10 सितंबर तक का समय दिया गया है। साथ ही सरकार से यह भी मांग की है कि एमएसपी रेट से कम बाजरे की बिक्री होने पाए। सदस्यों ने जिला उपायुक्त से मांग करते हुए कहा कि जिस तरह सरसों की खरीद को लेकर गांवों के नंबर लगाए गए थे, उस तरह के बाजरे की खरीद में नंबर नहीं लगाए जाए। किसानों के बाजरे की दाने-दाने की खरीद हो। 

इसके अलावा 1 सितंबर से हल्का पटवारी को बिक्री के लिए फर्द नि:शुल्क बनाने के निर्देश दिए जाए, अनाज की आद्रता को मनमाने ढंग से तय नहीं किया जाए खरीद के प्रबंध भी समुचित करने के निर्देश देने की मांग की है।