# पाक PM के आरोप पर भारत का पलटवार-टेररिस्तान है पाकिस्तान         # मोदी का वाराणसी दौरा आज, 305 करोड़ से बने ट्रेड सेंटर का करेंगे इनॉगरेशन         # समुद्र में बढ़ेगा भारत का दबदबा, पहली स्कॉर्पिन पनडुब्बी तैयार         # रोहिंग्या विवाद के बीच म्यांमार को सैन्य साजो-सामान दे सकता है भारत         # चीन में सोशल मीडिया पर इस्लाम विरोधी शब्दों के प्रयोग पर लगी रोक         # परवेज मुशर्रफ का दावा-बेनजीर की हत्या के लिए उनके पति जरदारी जिम्मेदार          # भारत ने अफगानिस्तान में 116 सामुदायिक विकास परियोजनाओं की ली जिम्मेदारी         # जम्मू-कश्मीर में दो आतंकी गिरफ्तार, सशस्त्र सीमाबल पर किया था हमला        
News Description
गैंगरेप पीड़िता ने दिया बच्ची को जन्म, बोली- नवजात को नहीं होने दूंगी खुद से अलग

मूहिक दुष्कर्म के बाद बच्ची को जन्म देने वाली किशोरी ने साफ कहा कि वह अपनी बेटी को अलग नहीं होने देगी। सजा उनको मिले जिन्होंने उसके साथ गलत किया। इसमें उसकी बेटी का क्या कसूर है। अब उसे डीएनए टेस्ट का इंतजार है ताकि उसके असली पिता का पता चल सके।

एलएनजेपी अस्पताल के प्रसूति केंद्र में शुक्रवार को किशोरी नवजात बेटी को आंचल से ढककर दूध पिला रही थी। साथ में उसकी मां भी थी। उसने अपनी बच्ची को छाती से लगाते हुए जागरण संवाददाता से परिचय मांगा और सवाल किया कि आप क्या लेने आए हो। जब उससे पूछा गया कि आखिर उसने घरवालों को बताने में इतना समय क्यों लगा दिया तो वह बोली कि उसे धमकाया गया था कि अगर किसी को कुछ बताया तो अच्छा नहीं होगा। वह जब गांव से बाहर जाती थी तो मौका पाकर अभियुक्त उसे रास्ते में घेर लेते थे और दुष्कर्म करते थे।

यह भी पढ़ें: युवकों ने घर में घुसकर मानसिक दिव्यांग लड़की से किया दुष्कर्म

आगे पढ़ना चाहती है 

दुष्कर्म पीडि़ता फिलहाल मदरसे में शिक्षा ग्रहण कर रही थी। उसे इतना पता है कि वह उर्दू सीखने जाती थी। वह आगे पढ़ना चाहती है।

मां की आंखों में बेटी को विदा करने का सपना

पीड़ित किशोरी की मां की आंखों में बेटी की शादी का सपना है। उसकी मां कहती है कि यह मामला निपटने के बाद उसकी शादी कर देगी और सब कुछ ठीक हो जाएगा। मां की आंखों में यही सपना है कि उसकी बेटी खुशहाल जीवन व्यतीत करे।