News Description
रिपोर्ट मंगवा कर पार्कों की कराई जाएगी जांच

क्षेत्रके गांवों में लाखों रुपए की लागत से बनी मेरा गांव मेेरी बगिया की खराब हालत जिले की नई डीसी से सुधारने की मांग की गई है। लोगों की इस शिकायत के बाद उपायुक्त सोनल गोयल का कहना है कि मामले की रिपोर्ट मंगवाई जाएगी, क्या पंचायत को इसे संभालने की जिम्मेवारी सौंपी गई थी या नहीं। इसकी जांच कराई जाएगी। 

ग्रामीणों का कहना है कि गांव दर गांव बनी बगिया में इस समय झाड़ उगे हुए हैं और पशु उसमें डेरा जमाए हुए है। हालत इतनी खराब है कि बगिया के अंदर जाने का रास्ता भी नहीं है। ग्रामीणों का कहना है कि करीब पांच वर्षो से ही पार्क की हालत खस्ता है। इसे कोई सुध लेने वाला नहीं है। पार्क के अंदर जाने से भी डर लगता है ताकि कोई कीड़ा काट ले। दादरीतोए गांव निवासी भतेरी, कमलेश दीपक का कहना है कि यह तो सिर्फ पशुओं की चरने की जगह बन कर रह गई है। लोगों को सुविधा देने के लिए प्रत्येक गांव में बनाई गई मेरा गांव मेरी बगिया इन दिनों काफी खस्ता हालत में है। स्थिति इतनी दयनीय है कि कोई देखकर यह नहीं बता सकता कि इस जगह पर कभी कोई पार्क बना था। 

बैंचझूले हुए गायब 

फल-फूलोंके पौधों की जगह अब झाड़ ने ले लिया है, जबकि बैठने के लिए बैंच और बच्चों के लिए झूले तो दिखाई ही नहीं देते। जिसके चलते ग्रामीण परेशान है और ग्रामीणों का तो यह कहना है कि पार्क अब मात्र पशुओं के लिए ही बनकर रह गया है।