# पाक PM के आरोप पर भारत का पलटवार-टेररिस्तान है पाकिस्तान         # मोदी का वाराणसी दौरा आज, 305 करोड़ से बने ट्रेड सेंटर का करेंगे इनॉगरेशन         # समुद्र में बढ़ेगा भारत का दबदबा, पहली स्कॉर्पिन पनडुब्बी तैयार         # रोहिंग्या विवाद के बीच म्यांमार को सैन्य साजो-सामान दे सकता है भारत         # चीन में सोशल मीडिया पर इस्लाम विरोधी शब्दों के प्रयोग पर लगी रोक         # परवेज मुशर्रफ का दावा-बेनजीर की हत्या के लिए उनके पति जरदारी जिम्मेदार          # भारत ने अफगानिस्तान में 116 सामुदायिक विकास परियोजनाओं की ली जिम्मेदारी         # जम्मू-कश्मीर में दो आतंकी गिरफ्तार, सशस्त्र सीमाबल पर किया था हमला        
News Description
कुरुक्षेत्र विजन-2022 का ड्राफ्ट तैयार होंगे कई विकासःडी.सी

डी.सी. सुमेधा कटारिया ने कहा कि कुरुक्षेत्र विजन-2022 का ड्राफ्ट तैयार किया जाएगा। इस प्रस्ताव के अनुसार वर्ष 2022 तक के कुरुक्षेत्र की तस्वीर को देखा जाएगा और इस योजना के अनुसार ही थानेसर, पिहोवा, इस्माईलाबाद, शाहाबाद, बाबैन, लाडवा और पिपली का विकास, सौंदर्यीकरण, स्वच्छता, स्वच्छ पर्यावरण और ग्रीन जिला कुरुक्षेत्र बनाया जाएगा। वे लघु सचिवालय के सभागार में कुरुक्षेत्र विजन-2022 का ड्राफ्ट तैयार करने के उद्देश्य से समस्त अधिकारियों, समाजसेवी संस्थाओं के प्रतिनिधियों और गण्यमान्य लोगों की संयुक्त बैठक को संबोधित कर रही थीं। 

उन्होंने कहा कि योजना के अनुसार 5 सालों में कैसा कुरुक्षेत्र होना चाहिए, की रूपरेखा तैयार की जाएगी। इस प्रस्ताव में थानेसर शहर ही नहीं, जिला कुरुक्षेत्र का 1-1 गांव और 1-1 वार्ड की योजना को शुमार किया जाएगा। इस कार्य के लिए सभी कर्मचारी, अधिकारी और आम नागरिक की सहभागिता को सुनिश्चित किया जाएगा। 40 प्रतिशत नौजवान सरपंचों के सपनों का गांव बनाने का काम किया जाएगा। योजना के अनुसार कुरुक्षेत्र के आर्थिक, सामाजिक, भौगोलिक, सांस्कृतिक, धार्मिक, पर्यटन की द्रष्टि से तमाम विषयों को शामिल किया जाएगा। इसके लिए आम नागरिक प्रशासन की वैबसाइट पर सुझाव दे सकता है।

इन्होंने दिए सुझाव
कुरुक्षेत्र विजन-2022 को लेकर ए.डी.सी. पार्थ गुप्ता, एस.डी.एम. नरेंद्र पाल मलिक, एस.डी.एम. सतबीर कुंडू, एस.डी.एम. पूजा, डी.आर.ओ. डा. चांदी राम चौधरी, डी.एस.पी. नुपूर बिश्रोई, सी.एम.ओ. डा. एस.के. नैन, के.डी.बी. सदस्य सौरव चौधरी, उपेंद्र सिंघल, राजेश सिंगला, डा. नरेंद्र गुप्ता, डा. ए.सी. नागपाल, जंगबहादुर, प्रोफैसर डी.एस. कपूर, राजेंद्र शर्मा, देवराज सिरोहीवाल, नाबार्ड के डी.एम. आर.एस. मोर, मुनीष कुमार, प्रगतिशील किसान हरपाल सिंह, उपनिदेशक कृषि विभाग डा. कर्मचंद सहित अन्य अधिकारियों ने भी अपने विभागों से संबंधित योजनाओं को सबके समक्ष रखा।