News Description
ग्रामीण बोले- साहब ! वो झूठा केस दर्ज करवा बना रहे दबाव डीसी का जवाब- चिंता करो, जांच के बाद करेंगे क

दगढ़गांव में बिजली कर्मचारियों से मारपीट महिलाओं द्वारा लगाए छेड़छाड़ के आरोप का मामला अब बढ़ गया है। सोमवार को नंदगढ़ समेत आसपास के 8 गांवों के सैकड़ों ग्रामीण मामले में निष्पक्ष कार्रवाई की मांग को लेकर लघु सचिवालय पहुंचे। ग्रामीणों ने इस दौरान करीब एक घंटे तक लघु सचिवालय के मेन गेट पर धरना दे दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की। बाद में डीसी अमित खत्री मौके पर पहुंचे। 

ग्रामीणों ने डीसी से कहा कि बिजली चोरी का झूठा मुकदमा दर्ज करवाया है और अब वे यूनियन का दबाव बनाकर हड़ताल की धमकी दे रहे हैं। ग्रामीणों ने कहा कि ज्यादती उनके साथ हुई है। बिजली कर्मियों ने महिलाओं के साथ छेड़छाड़ की है लेकिन तीन दिन बीत जाने के बाद भी किसी आरोपी के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गई। इस पर डीसी ने ग्रामीणों को आश्वासन दिया कि वे मामले की एडीसी से जांच करवाएंगे। जो भी दोषी होगा उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। 

नंदगढ़ बारहा खाप के प्रधान होशियार सिंह दलाल, पूर्व प्रधान जयसिंह दलाल समेत कई मौजिज व्यक्तियों ने कहा कि 48 घंटे तक ग्रामीण प्रशासन की जांच का इंतजार करेंगे। यदि इसके बाद भी प्रशासन ने दोषी बिजली कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई नहीं की तो इसके विरोध में आंदोलन शुरू कर दिया जाएगा

नंदगढ़,सिरसाखेड़ी, फतेहगढ़, लिजवाना खुर्द, भैरोखेड़ा, किलाजफरगढ़, हथवाला समेत आठ गांवों के ग्रामीण जिनमें महिलाएं भी शामिल थी। सोमवार दोपहर को करीब दो दर्जन ट्रैक्टर-ट्राॅलियों में सवार होकर लघु सचिवालय पहुंचे। ग्रामीणों ने पुलिस द्वारा दर्ज किए गए मामले पर रोष जताया। ग्रामीणों ने डीसी को बताया कि जिस दिन से यह मामला हुआ है बिजली कर्मचारी नंदगढ़ आसपास के गांवों में बिजली सप्लाई में भेदभाव कर रहे हैं। रात भर बिजली नहीं आती। खेतों से पानी निकासी के लिए जो केबल लगाई गई थी। उसको भी वे उतारकर ले गए। वे ग्रामीणों से चोरी केस में फंसाने की धमकी देकर उनसे पैसे वसूलते हैं। बिजली चोरी पकड़ने के बहाने कर्मचारियों ने घर में घुसकर महिलाओं के साथ छेड़छाड़ की। उन्हें गंदा बोला गया। इसकी शिकायत पुलिस को दी गई। लेकिन पुलिस ने एकतरफा कार्रवाई कर ग्रामीणों पर झूठे केस दर्ज कर दिए। 


90 ग्रामीणों के खिलाफ दर्ज है मारपीट का केस 

तीनदिन पहले नंदगढ़ गांव में जुलाना सब डिवीजन के एसडीओ के नेतृत्व में बिजली निगम की टीम गई हुई थी। इस दौरान टीम के साथ मारपीट हुई जिसमें एसडीओ समेत कई कर्मचारियों को चोट आई। इस पर पुलिस ने एसडीओ की शिकायत पर गांव के करीब 90 व्यक्तियों के खिलाफ मारपीट, सरकारी काम में बाधा डालने, बिजली चोरी करने समेत कई धाराओं के तहत केस दर्ज किया गया है। इसी दिन शाम को नंदगढ़ गांव की अनेक महिलाएं ग्रामीण जुलाना पुलिस थाने पहुंचे। महिलाओं ने पुलिस को शिकायत दी कि बिजली कर्मियों ने घर में घुसकर, उनके साथ छेड़छाड़ की गई, गंदा बोला, लेकिन पुलिस ने इस शिकायत पर कोई कार्रवाई नहीं की। इसको लेकर ग्रामीणों में रोष है।