#घाटी में आतंकवाद को नई धार देने की फिराक में हाफिज         # 26/11 जैसे हमलों को रोकने के लिए तैयार भारत, सैटेलाइट के जरिए पकड़े जाएंगे संदिग्ध         # पद्मावती के विरोध में किले में लटका दी लाश, पत्थर पर लिख दी धमकी         # हरियाणा के 13 जिलों में तीन दिन के लिए मोबाइल इंटरनेट सेवाएं बंद         # जनहित याचिकाओं के गलत इस्तेमाल पर सुप्रीम कोर्ट चिंतित, संशोधन पर विचार         # ऑड-ईवन योजना में दिल्ली के साथ NCR के दूसरे शहर भी होंगे शामिल :EPCA         # UP निकाय चुनावों में EVM की विश्वसनीयता पर शत्रुघ्न सिन्हा ने उठाए सवाल         # पाक की बेशर्मी, फूलों से सजी गाड़ी से पहुंचा आतंकी हाफिज, लाहौर में मना जश्न        
News Description
एक शाम शहीद के नाम कार्यक्रम का आयोजन

हरियाणा ग्रंथ अकादमी के तत्वावधान में प्रेरणा संस्था व सेक्टर-3 स्थित किड्स प्लेनेट पी पब्लिक स्कूल में विद्या भारती के सभागार में एक शाम शहीद के नाम कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इसके पश्चात भारत को स्वतंत्रता सेनानियों की देन विषय पर ¨चतन संगोष्ठी का आयोजन किया गया, जिसमें कार्यक्रम की अध्यक्षता गुड़गांव रेज के पूर्व आयुक्त केके शर्मा ने की। वहीं कार्यक्रम की मुख्यातिथि नगर परिषद की अध्यक्ष उमा सुधा रहीं और विशिष्ट अतिथि डॉ. विजय दत्त शर्मा रहे।

मुख्य वक्ता डॉ. हिम्मत¨सह सिन्हा, डॉ. एमएम जुनेजा, देवी दयाल शर्मा, प्रेरणा के संस्थापक जय भगवान ¨सगला, अध्यक्ष रेणु खुग्गर ने दीप प्रज्वलन कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया। किड्स प्लेनेट प्रेम पब्लिक स्कूल के विद्यार्थियों ने देशभक्ति से ओतप्रोत सांस्कृतिक गीत, नृत्य एवं लघु नाटक प्रस्तुत किए। वात्सल्य वाटिका के विद्यार्थियों ने देशभक्ति गीत पर नृत्य पेश किया। इस अवसर पर हरकेश पपोसा की टीम ने हरियाणवीं अंदाज में गीत ए रागिनी एवं नृत्य प्रस्तुत किया। कार्यक्रम के दौरान स्वामी हरिओम दास परिव्राजक, राष्ट्रीय अवॉर्डी अशोक कुमार वर्मा, कुमारी प्रियंका एवं दिव्या डॉ. मधू, डॉ. अजय गोयल को संस्कृति सेवा सम्मान से सम्मानित किया गया। मुख्य वक्ता डॉक्टर हिम्मत ¨सह सिन्हा ने कहा कि बचपन से ही बच्चों में देशभक्ति के भाव डालने चाहिए। विद्यार्थियों के मन में समर्पण की भावना होनी चाहिए। विशिष्ट अतिथि डॉ. विजय दत्त शर्मा ने कहा कि वर्तमान में बच्चों को संस्कार देना बहुत आवश्यक है पाश्चात्य संस्कृति की चकाचौंध में हम अपनी परंपराओं एवं संस्कृति को भूलते जा रहे हैं। हमें देशभक्तों के त्याग एवं समर्पण से प्रेरणा लेनी चाहिए। मुख्य अतिथि उमा सुधा ने शहीदों को नमन करते हुए कहा कि भारत देश को आजाद कराने में शहीदों की कुर्बानी को कभी भुलाया नहीं जा सकता।