#घाटी में आतंकवाद को नई धार देने की फिराक में हाफिज         # 26/11 जैसे हमलों को रोकने के लिए तैयार भारत, सैटेलाइट के जरिए पकड़े जाएंगे संदिग्ध         # पद्मावती के विरोध में किले में लटका दी लाश, पत्थर पर लिख दी धमकी         # हरियाणा के 13 जिलों में तीन दिन के लिए मोबाइल इंटरनेट सेवाएं बंद         # जनहित याचिकाओं के गलत इस्तेमाल पर सुप्रीम कोर्ट चिंतित, संशोधन पर विचार         # ऑड-ईवन योजना में दिल्ली के साथ NCR के दूसरे शहर भी होंगे शामिल :EPCA         # UP निकाय चुनावों में EVM की विश्वसनीयता पर शत्रुघ्न सिन्हा ने उठाए सवाल         # पाक की बेशर्मी, फूलों से सजी गाड़ी से पहुंचा आतंकी हाफिज, लाहौर में मना जश्न        
News Description
स्वर्ण जयंती बाग लगाओ अभियान समारोह आयोजित

     हरियाणा बागवानी विभाग की ओर से शनिवार को गांव जौरासी खास में स्वर्ण जयंती बाग लगाओ अभियान समारोह आयोजित किया गया। इस समारोह के मुख्यअतिथि हरियाणा राज्य बागवानी विभाग अभिकरण प्रबंध निदेशक डा0 भगत सिंह सहरावत रहे। विशिष्ठ अतिथियों में इफको के अधिकारी एसपीएस कल्याण, कृषि विज्ञान केन्द्र के डा0 राजबीर गर्ग, डा0 जगत सिंह, डा0 वाईडी त्यागी, नाबार्ड के डीडीएम संजय कुमार, गौ सेवक हरिओम तायल, बागवानी विशेषज्ञ मास्टर सुभाष चन्द्र शर्मा शामिल रहे। कार्यक्रम का शुभारम्भ वन्दे मात्रम तथा जय जवान-जय किसान के साथ हुआ। मुख्यअतिथि ने पानीपत जिला की बागवानी को बढावा देने के लिए 5 करोड़ 50 लाख रूपये का अनुदान देने की घोषणा की। समारोह में प्रगतिशील किसानों को सम्मानित किया गया। समारोह की अध्यक्षता जिला बागवानी अधिकारी डा0 सुभाष चन्द्र ने की। 

      प्रबंध निदेशक डा0 भगत सिंह सहरावत ने कहा कि हरियाणा कृषि प्रधान प्रदेश है। हरियाणा में कुल 90 लाख एकड़ भूमि कृषि योग्य है और इस प्रदेश ने कृषि और बागवानी के मामले में हमेशा ही अच्छा प्रदर्शन किया है लेकिन बढती जनसंख्या व बढती कृषि की लागत के कारण खेती अब विशेष लाभ का व्यवसाय नही रहा है और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 2022 से पूर्व किसानों की आय दुगनी करने की घोषणा की है और यह तभी सम्भव होगा जब सभी किसान कृषि के साथ-साथ बागवानी को भी अपनाएंगे। 

   उन्होंने कहा कि खेती के परम्परागत स्त्रौत घट रहे हैं और जल स्तर निरन्तर गिरता जा रहा है। समालखा खण्ड को भी डार्क जॉन घोषित किया गया है। इसलिए हरियाणा सरकार ने पानीपत सहित प्रदेश के 13 जिलों के 36 विकास खण्डों में जलवायु आधारित खेती बागवानी करने का निर्णय लिया है। उन्होंने कहा कि यदि किसान पोली हाउस खेती करते हैं तो सरकार की ओर से उन्हें प्रर्याप्त अनुदान दिया जाता है तथा यदि वे सब्जियों के लिए बड़े ठण्डे गोदाम बनाते है तो उन्हें 35 प्रतिशत से अधिक अनुदान दिया जाता है।