News Description
पोते की मौत की बात 20 घंटे तक दादा से छुपाई, संस्कार के बाद जैसे ही बताया, वे भी चल बसे

गुरुवार रात किसी काम से यमुनानगर आया था। रात करीब दस बजे वह घर लौट रहा था। जैसे ही सरस्वती स्कूल के पास पहुंचा तो पीछे से ट्रक ने टक्कर मार दी। मौके पर ही उसकी मौत हो गई। रोहित की मौत की बात परिजनों ने 20 घंटे तक उसके दादा राणा मोहन सिंह से छुपाकर रखी, लेकिन संस्कार के बाद जैसे ही उन्हें यह बताया तो वे इस हादसे को नहीं सह पाए और उनकी भी मौत हो गई। शाम को ही उनका संस्कार कर दिया गया।

गंगानगर कॉलोनी निवासी रोहित की सड़क हादसे में मौत के बाद लोगों ने गुरुवार रात को पांवटा साहिब नेशनल हाइवे जाम कर दिया। 12 बजे तक लोग हाइवे पर बैठे रहे। लोगों को गुस्सा इस बात से था कि हादसे के बाद ट्रक चालक फरार हो गया, लोगों ने सूचना पुलिस कंट्रोल रूम में देनी चाही तो फोन किसी ने नहीं उठाया। वहीं एंबुलेंस भी समय पर नहीं पहुंची। तीसरी बात थी कि जिसकी वजह से हादसा हुआ। अग्रसेन चौक से बुड़िया चौक तक सड़क किनारे लक्कड़ की ट्रॉलियों और ट्रक खड़े रहते हैं। इससे एक वाहन को दूसरे वाहन को ओवर टेक करने की लिए जगह नहीं मिल पाती और हादसा हो जाता है।

एक घंटे बाद जगाधरी थाना प्रभारी जसवंत सिंह के आश्वासन के बाद रात करीब 12 बजे लोगों ने जाम खोला। ट्रक ड्राइवर के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है।

इधर, बुजुर्ग महिला की मौत
गांवखेड़ा निवासी चमन लाल ने शहर जगाधरी पुलिस को शिकायत दी कि 8 अगस्त को उसकी भाभी फूलवती (70) को एक्टिवा सवार ने टक्कर मार दी। उसका इलाज पीजीआई में चल रहा था। वहां पर उसकी मौत हो गई।