News Description
युवक की मौत होने पर गुस्साए परिजन, डॉक्टरों पर लापरवाही का आरोप

    20 वर्षीय अरविंद की गुरुवार को पीजीआईएमएस की लाला श्यामलाल बिल्डिंग में इलाज के दौरान मौत हो गई। इस मामले में युवक के परिजनों ने हंगामा कर डॉक्टरों पर लापरवाही के आरोप लगाए हैं और उनके खिलाफ पुलिस में मामला दर्ज करने सीबीआई जांच की मांग की है। न्याय मिलने पर परिजनों ने विरोध जताने की भी चेतावनी दी है।

       पाड़ा मोहल्ला निवासी मृतक अरविंद के पिता अनिल और ताऊ सुधीर ने बताया कि उनके बेटे अरविंद को सिर में रसौली थी। इसी समस्या को लेकर पीजीआईएमएस के न्यूरोलॉजी विभाग के वार्ड नंबर 29 में डॉक्टरों ने अरविंद को भर्ती कर लिया। यहां पर सीनियर डॉक्टर ने बताया कि अरविंद का ऑपरेशन किया जाएगा और यह काम एक जूनियर डॉक्टर को दे दिया। पहले ऑपरेशन हुआ तो सिर में से रेसा बाहर आने लगा। इसकी जानकारी डॉक्टर को दी तो उन्होंने दोबारा से ऑपरेशन की बात कह दी। लगातार सात ऑपरेशन किए गए और फिर भी अरविंद का इलाज ठीक से नहीं हो पाया और गुरुवार को अचानक अरविंद ने पीजीआईएमएस में इलाज के दौरान दम तोड़ दिया। डॉक्टरों से इसे लेकर पहले भी कहा गया था कि यदि इलाज उनके काबू में नहीं है तो दिल्ली में इलाज करवा लेंगे, लेकिन डॉक्टरों ने एक नहीं सुनी।
     
     अरविंद की मौत के बाद डॉक्टरों ने उसकी मेडिकल फाइल भी नहीं दी है। इस बात से नाराज परिजनों ने गुरुवार देर शाम एमएस ऑफिस में जाकर हंगामा किया। साथ ही बताया कि डॉक्टरों की लापरवाही के बारे में पीजीआईएमएस थाने में गए तो उन्होंने एफआईआर भी दर्ज नहीं की और अधिकारियों से शिकायत करने की बात कहकर टरका दिया। मृतक के परिजनों ने डॉक्टरों पर मेडिकल स्टोरों से मिलीभगत के आरोप लगाए हैं। परिजनों ने पूरे मामले की सीबीआई जांच की मांग की है।