#घाटी में आतंकवाद को नई धार देने की फिराक में हाफिज         # 26/11 जैसे हमलों को रोकने के लिए तैयार भारत, सैटेलाइट के जरिए पकड़े जाएंगे संदिग्ध         # पद्मावती के विरोध में किले में लटका दी लाश, पत्थर पर लिख दी धमकी         # हरियाणा के 13 जिलों में तीन दिन के लिए मोबाइल इंटरनेट सेवाएं बंद         # जनहित याचिकाओं के गलत इस्तेमाल पर सुप्रीम कोर्ट चिंतित, संशोधन पर विचार         # ऑड-ईवन योजना में दिल्ली के साथ NCR के दूसरे शहर भी होंगे शामिल :EPCA         # UP निकाय चुनावों में EVM की विश्वसनीयता पर शत्रुघ्न सिन्हा ने उठाए सवाल         # पाक की बेशर्मी, फूलों से सजी गाड़ी से पहुंचा आतंकी हाफिज, लाहौर में मना जश्न        
News Description
एमबीबीएस चिकित्सकों के लिए यूनिक लोगो हुआ जारी

एमबीबीएस चिकित्सकों और झोलाछाप स्वास्थ्य कर्मी की अब आसानी से पहचान हो सकेगी। सरकार ने चिकित्सकों के लिए यूनिक लोगो जारी किया है। इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आइएमए) के प्रधान डॉ. घनश्याम मित्तल ने बताया कि इससे झोला छाप,बीएम, आयुर्वेदिक आदि चिकित्सकों से एमबीबीएस की अलग पहचान होगी।

     उन्होंने बताया कि आइएमए की राष्ट्रीय इकाइ के प्रयासों से लंबे संघर्ष के बाद यह सफलता मिली है। उन्होंने बताया कि पिछले लंबे समय से सभी प्रकार के चिकित्सक एक ही लोगो का प्रयोग कर रहे थे। अब यूनिक लोगो मिलने से मरीजों को एमबीबीएस चिकित्सकों की पहचान सुनिश्चित करने में आसानी होगी। नव प्रदत यूनिक लोगो में लाल रंग के क्रॉस निशान में डीआर लिखा हुआ है। इसे इस्तेमाल करने वाले चिकित्सकों के पास मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया द्वारा एमबीबीएस की डिग्री प्राप्त होनी चाहिए। यदि कोई बिना इस योग्यता के लोगो का प्रयोग करता पाया गया तो कानूनी कार्यवाही की जाएगी।

     इसमें कॉपीराइट कानून के तहत आरोपी को 6 माह से तीन साल तक की सजा व 50 हजार से दो लाख रुपये तक का जुर्माना लगाया जाएगा। डॉ. मित्तल ने बताया कि नए लोगों से मरीजों को एलोपैथी चिकित्सकों की पहचान करने में आसानी होगी वहीं एमबीबीएस चिकित्सकों को प्रतिष्ठा सूचक अपनी विशिष्ट पहचान मिली है।