News Description
मंगल-बुध को चंडीगढ़ में कार्यकर्ता की सुनें मंत्री, लाइन खत्म होने तक कार्यालय न छोड़ें

    हरियाणा प्रवास में तीन दिन तक मंत्री, कार्यकर्ताओं, विभिन्न मोर्चा, प्रकोष्ठ और संगठन के तमाम पदाधिकारियों के साथ बैठक में सामने आई कार्यकर्ताओं की नाराजगी को भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने गंभीरता से लिया है। उन्होंने मंत्रियों, कार्यकर्ताओं और सभी मोर्चा प्रभारियों को कार्यप्रणाली की नसीहत दी है।

    कार्यकर्ताओं को जहां बूथ लेवल पर आम आदमी से जुड़ने की सलाह दी गई है वहीं मंत्रियों को कार्यकर्ताओं से समन्वय बनाने और उनकी हर समस्या सुनने की हिदायत दी है। उन्होंने आदेश दिया है कि प्रदेश के सभी मंत्री हर सप्ताह मंगलवार और बुधवार को सुबह 10 बजे से भाजपा के कार्यकर्ताओं के लिए चंडीगढ़ में उपलब्ध रहेंगे। सभी मंत्री अपने कार्यालय में तब तक रहेंगे जब तक सभी कार्यकर्ताओं की बात सुन नहीं ली जाती। लंच टाइम में बाहर जाने की बजाय वहीं टिफिन मंगाकर भोजन भी कार्यालय में ही करें। अमित शाह शुक्रवार को रोहतक के एमडीयू में टैगोर सभागार में अपने तीन दिवसीय प्रवास के अंतिम दिन भाजपा के विभिन्न मोर्चों के अध्यक्षों, पदाधिकारियों सहित विभिन्न प्रकोष्ठों के पदाधिकारियों के सम्मेलन में मिशन-2019 के टिप्स दे रहे थे।

    वहीं, उन्होंने कार्यकर्ताओं से कहा कि कार्यकर्ताओं को सरकार को मजबूत करना पड़ेगा। सरकार को भी कार्यकर्ता को सुनना पड़ेगा। इन दो दिनों के लिए किसी भी कार्यकर्ता को किसी मंत्री से मिलने का समय लेने की जरूरत नहीं है। सप्ताह के शेष दिन उनसे मिलने कोई कार्यकर्ता चंडीगढ़ नहीं जाएगा। मंत्रियों को कार्यकर्ता व सरकार के अन्य काम करने के लिए भी समय देना होगा। उन्होंने कहा कि व्यवस्था ठीक की जा रही है परंतु उसका पालन करना भी आवश्यक है। शाह ने कहा कि कार्यकर्ताओं से जानकारी लेने व उनकी समस्याओं का समाधान करने के लिए मंत्री एक महीने में एक दिन अपने संबंधित जिले में जाएंगे। वहां लोगों की समस्याएं भी सुनेंगे, ताकि ग्राउंड लेवल पर कनेक्टिविटी बनी रहे।