News Description
पीओएस मशीनों से मिलेगा किसानों को खाद, विक्रेताओं को बांटी गई मशीनें

    कृषि एवं किसान कल्याण विभाग की ओर से कृषि से संबंधित विभागों द्वारा खाद विक्रेताओं को पीओएस मशीनों का वितरण किया गया। डीसी रोहताश खरब डीडीए डॉ. आदित्य डबास के निर्देशन में खाद विक्रेताओं को पीओएस मशीनों बांटी गई। उन्होंने कहा कि इससे अब सब्सिडी को लेकर हेरा-फेरी पर रोक लगेगी। 

डीसी रोहताश खरब ने कहा कि पीओएस मशीनें आने से नकद रुपए छीनने, गिरने के भय से मुक्त होने के लिए पीओएस मशीन का कार्य काफी लोकप्रिय हो रहा है। सरकार द्वारा किसानों के लिए खेती के कार्यों में दी जाने वाली सब्सिडी में हेराफेरी, बजट में हो रही गड़बड़ी, किसान को खाद मिलना, जैसी अनेक योजनाओं में हो रहे भ्रष्टाचार को रोकने के लिए पीओएस मशीन को प्रयोग में लाया गया है। इससे खाद विक्रेताओं, डीलरों के कार्य में भी पूरी पारदर्शिता आएगी और भ्रष्टाचार पर अंकुश लगेगा। उन्होंने कहा कि यह तकनीक अपनाने से किसानों को सरकार की सभी योजनाओं का लाभ समय पर मिल सकेगा। 

डीडीए डॉ. आदित्य प्रताप डबास ने कहा कि पीओएस मशीन नेशनल फर्टिलाइजर्स कम्पनी द्वारा अधिकृत की गई है। इस पीओएस मशीन से आधार कार्ड द्वारा किसान को लिंक किया जाएगा। 

जिससे किसान इस पीओएस मशीन से पूरी तरह लिंक हो जाएगा। इस पीओएस मशीन में सारा रिकार्ड रहेगा कि कितना खाद है और कितना बिक्री हुआ है और वर्तमान में कितना खाद बकाया पड़ा है। उन्होंने बताया कि कोई भी किसान, खाद विक्रेता या डीलर इस मशीन को 20 हजार रुपए में लगवा सकता है।