News Description
एलईडी के बाद अब पंखे और ट्यूब लाइट बेचेगा निगम

बिजलीकी खपत का आंकड़ा एलईडी बल्ब से आधा हो गया हैं। क्योंकि यहां चार लाख के करीब बल्ब बहादुरगढ़ के घरों में रोशनी दे रहे हैं। जो पहले दूसरे साधारण बल्ब देते थे। इससे बिजली निगम को करीब पचास हजार यूनिट बिजली की कम खपत महसूस हो रही है। इससे उत्साहित होकर अब उत्तर हरियाणा बिजली वितरण निगम ने एलईडी के बाद उपभोक्ताओं को पंखे ट्यूब लाइटें भी उपलब्ध करवा दी है। बहादुरगढ़ के मंडल कार्यालय से कार्यकारी अभियंता से संदीप जैन द्वारा की गई। उजाला योजना के तहत अभी तक एक करोड़ 26 लाख एलईडी बल्बों का वितरण पूरे प्रदेश में किया जा चुका है। इस योजना से प्रतिवर्ष 1644 मिलियन बिजली यूनिट बचत भी हो रही है। राज्य में 329 मेगावॉट की अधिकतम मांग में कमी आई है। प्रतिवर्ष उपभोक्ताओं के बिलों में 658 करोड़ रुपए की कमी आई है। 

 बिजलीलाइन लॉस करने वालों पर निगम की टीमों ने अपनी टेड़ी नजर रखनी शुरू कर दी। कुंडी कनेक्शन, मीटरों के साथ छेड़छाड़ दूसरे अन्य तरीकों से बिजली चोरी करने वालों को पकड़ने के लिए निगम की टीमें दिन-रात छापेमारी कर रही है। शहरी ग्रामीण क्षेत्रों में जाकर टीमें केस पकड़ रही हैं। जुलाई माह में निगम की टीमों ने 304 बिजली चोरी केस पकड़े हैं। जिन पर लगभग साढ़े 91 लाख रुपए जुर्माना लगाया गया है। इसमें से 45 लाख की रिकवरी भी की जा चुकी है। उत्तर हरियाणा बिजली वितरण निगम की ओर से लगातार बिजली चोरों को पकड़ने के लिए अभियान छेड़ा हुआ है। इसके तहत जहां जहां ओवर लोड की समस्या अधिक सामने रही है पहले वहां पर विशेष रूप से छापेमारी की जा रही है। दिन-रात निगम की 7 टीमें अलग-अलग स्थानों पर जाकर छापे मार रही है। छापेमार कार्रवाई के दौरान एसडीई से लेकर जेई अन्य निगम के कर्मचारियों की पूरी टीम शामिल रहती है। निगम के अधिकारियों के अनुसार गत जुलाई माह में बहादुरगढ़ डिवीजन में कुल 304 बिजली चोरी के केस पकड़े गए हैं। उन पर निर्धारित लोड के हिसाब से जुर्माना लगाया गया है। जो भी व्यक्ति बिजली चोरी करता हुआ मिला है उस पर तुरंत कार्रवाई की जा रही है। अब तक पिछले महीने में पकड़े गए 304 बिजली चोरों पर निगम की ओर से 91 लाख 46 हजार रुपए का जुर्माना ठोंका गया है। इसमें से निगम ने 45 लाख रुपए की रिकवरी भी कर ली है और बकाया के लिए उचित कार्रवाई की जा रही है।निगम के एक्सईन संदीप जैन का कहना है कि लोगों को निर्धारित शेड्यूल के हिसाब से बेहतर बिजली आपूर्ति की जा रही है। यदि कोई भी व्यक्ति बिजली चोरी करते हुए मिलेगा उस पर हर हाल में कार्रवाई होगी। साथ में जुर्माने की अदायगी भी तुरंत ही की जाएगी। उपमंडल में 7 टीमें बिजली चोरी पर अंकुश लगाने के लिए लगातार दिन-रात छापेमारी कर रही है। एक टीम में 10 से 12 अधिकारी कर्मचारी शामिल है। शहर गांव में लगातार जांच अभियान जारी है। यदि कोई व्यक्ति छापा मार टीम के साथ कोई अभद्र व्यवहार करता है या फिर काम में बाधा डालता है तो उसके खिलाफ पुलिस में शिकायत भी दी जाएगी