News Description
महिला की चोटी कटी, अफवाहों को मिली हवा

महिलाओं की चोटी कटने का सिलसिला थम नही रहा है। बृहस्पतिवार को फरुखनगर के गांव पातली हाजीपुर में एक महिला (20) की चोटी कट गई। उसके परिजनों ने बताया कि महिला बाथरूम में नहाने गई थी। बाल धुलते वक्त उसकी चोटी का कटा हिस्सा हाथ में आया तो महिला दहशत के मारे बेहोश हो गई। उसके घर वाले एक ओझा के पास ले गए हालांकि रास्ते में ही उसको होश आ गया था।

ओझा को दिखाने के बाद परिजनों ने जूना अखाड़ा गुरुग्राम मंडल के अध्यक्ष महंत पहाड़ी बाबा तारागिरी के आश्रम में ले गए। महंत ने महिला को देखने व बात करने के बाद भूत प्रेत का साया होने से इनकार किया। उन्होंने कहा कि कटी चोटी की जांच होनी चाहिए। यह भी हो सकता है कि महिला की चोटी किसी शरारती तत्व ने पहले काट दी हो, उसे पता नहाते समय चला। वहीं महिला सुमन दावा कर रही थी कि किसी ने उसकी चोटी काटी है। घरवाले में भी उसकी बात पर यकीन कर रहे थे। जबकि गांव के मौजिज लोग घटना को अंधविश्वास बता रहे थे। सूचना पाने के बाद फरुखनगर थाना पुलिस भी मामले की जांच में लग गई।

इसके पहले इसी क्षेत्र के गांव जोनियावास में भी तीन घरों में महिलाओं के बाल कटने की बात सामने आई थी। दो महिलाओं की मानसिक स्थिति भी पहले से ही नही सही थी। एक घर में सीसीटीवी कैमरा भी लगा था। पुलिस ने देखा तो घर में कोई अनजबी आते-जाते नहीं नजर आया। जबकि महिला दावा कर रही थी कि एक महिला उसे नजर आई उसके बाद चोटी कट गई।

अफवाह निकली

गुरुग्राम के प्रताप नगर में बृहस्पतिवार सुबह से चार महिलाओं की चोटी कटने की बात फैली हुई थी। जांच की गई तो जिन महिलाओं के नाम लिए गए वह अपने घर में सामान्य हाल में मिलीं। पुलिस जांच में भी यही पाया गया। शाम को अफवाह उड़ी की न्यू कालोनी थाना पुलिस ने एक युवक व दो महिलाओं को चोटी काटने के आरोप में पकड़ा है। थाना प्रभारी इंस्पेक्टर बाबूलाल का कहना था कि ऐसी कोई घटना ही नही हुई। बता दें कि सेक्टर सात में एक एक युवती की चोटी कटने की घटना झूठी निकल चुकी है। पुलिस जांच में पाया गया कि जिस चोटी को वह अपनी बता रही है वह उसके बालों के हिस्सा ही नही है।

आरडब्ल्यूए पदाधिकारी कर रहे जागरूक

अफवाहों के फेर में लोग नही पड़ें इसके लिए आरडब्ल्यूए के पदाधिकारी व सामाजिक संगठनों के लोगों ने सतर्कता बरतनी शुरू कर दी है। लोग पार्क व अन्य स्थानों पर जाकर लोगों को सलाह भी दे रहे हैं कि वह अंधविश्वास से दूर रहें। शहर में जो बाल कटने में जो घटनाएं हुई व स्लम बस्तियों में रहने वाले महिलाओं के साथ हुई। सेक्टर पांच आरडब्ल्यूए अध्यक्ष दिनेश वशिष्ठ ने कहा कि अब तक वारदात किसी पढ़ी लिखी औरत के साथ नहीं होना यह बता रहा कि अंधविश्वास पर यकीन करने वालों के ही बीच अफवाह फैलाई जा रही है। सेक्टर सात एक्सटेंशन के अध्यक्ष लोकेश आहूजा ने कहा झुग्गी झोपड़ी में रहकर घरों में कार्य करने वाली महिलाओं के बीच इन बातों की अधिक चर्चा है। घटनाएं नही मात्र अफवाह है।