News Description
दरियापुर में हाईवे के दुकानदार अड़े, एक्वायर जमीन के कब्जों पर नहीं चल पाया बुलडोजर

सिरसारोड पर गांव दरियापुर में गुरुवार को प्रशासन, नेशनल हाईवे की टीम पुलिस फोर्स के साथ फिर फोरलेन के लिए एक्वायर जमीन पर बनी दुकानें हटाने के लिए पहुंची। प्रशासन के एक दिन का समय देने के बावजूद लोगों ने दुकानों खाली नहीं की थी, इस पर टीम ने दोबारा जाकर दुकानों को गिराने के लिए बुलडोजर चला दिया गया। पहले तो दुकानदारों ने इसका विरोध किया, दुकानों के अंदर बैठ गए, लेकिन प्रशासन ने अपनी कार्रवाई नहीं रोकी। जिसे देखकर दुकानदारों ने बाहर आकर प्रशासन से समय मांगा। जिसके बाद लिखित में एक सप्ताह का समय दे दिया गया। इस कार्रवाई में विरोध करने वाले चार दुकानदारों को हिरासत में भी लिया गया था, लेकिन बाद में छोड़ दिया गया। 

गांव दरियापुर में नेशनल हाइवे फोरलेन के रास्ते पर करीब 20 दुकानों ने कब्जा कर रखा है। हाइवे का काम तकरीबन पूरा हो चुका है, लेकिन कुछ दुकानें होने से काम अटका हुआ है। जिससे आवाजाही में बाधा रही है। इस कब्जे को हटाने के लिए बुधवार को भी प्रशासन, नेशनल हाईवे की टीम पुलिस फोर्स गई थी। बुधवार को तहसीलदार नवदीप कौर ने दुकानदारों को गुरुवार तक का समय दिया गया था कि वह अपनी दुकानें खाली कर दें, लेकिन जब गुरुवार को प्रशासन की टीम दोबारा पहुंची तो दुकानें खाली नहीं मिली। दुकानें खाली मिलने पर दुकानदारों को तहसीलदार ने पहले तो समझाया कि वह अपनी दुकानें खाली कर दें, लेकिन दुकानदार नहीं माने तो तहसीलदार ने बुलडोजर चलाने के आदेश दिए। 

जैसे ही पहली दुकान पर बुलडोजर चलना शुरू हुआ तो पांच दुकानदार टूट रही दुकान में घुस गए और प्रशासन की कार्रवाई का विरोध करने लगे। यह होते देख पुलिस फोर्स दुकानों में घुस विरोध कर रहे 5 लोगों को अपनी हिरासत में ले लिया। इस पूरी कार्रवाई की वीडियोग्राफी भी की गई। इस मामले के बाद दुकानदार फिर से इकट्ठे होकर तहसीलदार नवदीप कौर बराड़ के पास पहुंचे। वही गांव दरियापुर के कुछ मौजिज लोग भी मौके पर पहुंच गए।