News Description
पटेल नगर आरयूबी का रास्ता साफ, निगम ने रेलवे को भेजी राशि

 मुख्यमंत्री मनोहर लाल के हिसार आने से पहले पटेल नगर में आरयूबी बनने का रास्त साफ हो गया है। दो सप्ताह से नगर निगम के पास आरयूबी का पैसा अटका हुआ था। मगर जब से मुख्यमंत्री का हिसार का दौरा प्रस्तावित हुआ है तब से निगम विकास कार्यों पर गंभीर नजर आ रहा है। इसी कड़ी में बुधवार को पटेल नगर आरयूबी के लिए दो करोड़ पांच लाख रुपये का डिमांड ड्राफ्ट बनाकर बीकानेर मंडल रेलवे के नाम पर भेज दिया गया।

रेलवे के पास पहुंचने के बाद अब आरयूबी के काम में तेजी आएगी और उम्मीद है कि जल्द ही आरयूबी का काम शुरू हो जाएगा। मुख्यमंत्री मनोहर लाल की घोषणा के अंदर आरयूबी के लिए पैसा जारी किया गया था। पिछले दिनों ही 25 करोड़ रुपये के सीएम घोषणाओं के प्रोजेक्ट पास हुए थे। भाजपा निगरानी कमेटी के सदस्य और पार्षद महेंद्र जुनेजा, सतीश कुमार, योगराज, अमित ग्रोवर सहित कई लोगों ने अपने अपने स्तर पर आरयूबी को लेकर धरने प्रदर्शन किए थे। सभी के संयुक्त प्रयासों से आखिरकार आरयूबी का पैसा सरकार के खाते से रेलवे के पास पहुंच गया है।

28 साल से चल रही आरयूबी की मांग

पटेल नगर में आरयूबी को लेकर पिछले 28 सालों से मांग की जा रही थी। सबसे पहले बीआर अंबेडकर सभा ने 1989 में सबसे पहले पटेल नगर आरयूबी की मांग रखी थी। इसी मांग को 2008 में आगे बढ़ाते हुए जीजेयू के लैब टेक्नीशियन सतीश श्योराण ने मांग को आगे बढ़ाया था। लोगों को रेलवे क्रां¨सग की समस्या से जूझना पड़ता था। इसी के निजात स्वरूप प्रशासन से लोगों ने आरयूबी की मांग की थी। आरयूबी को लेकर कई बार डिजाइन बनाए गए और बदले गए। जिसके बाद आखिरकार सरकार ने आरयूबी को लेकर पैसा जारी हुआ है। पार्षद महेंद्र जुनेजा ने कहा कि सरकार ने आरयूबी बनाने का वादा किया है। पैसा जारी हुआ है यह खुशी की बात है। उम्मीद है कि जल्द ही आरयूबी बनाने का काम भी शुरू हो जाएगा।