News Description
अमति शाह के होर्डिंग्स लगा रहे अधेड़ को कार ने कुचला, परिजनों ने नहीं लिया शव

      सांपला क्षेत्र में मंगलवार देर रात भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के स्वागत होर्डिंग्स लगा रहे युवक को अज्ञात इनोवा कार ने कुचल दिया। गंभीर रूप से घायल हुए व्यक्ति को पीजीआई लाया गया, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। वहीं, बुधवार को डेड हाउस पहुंचे परिजनों ने पुलिस पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए शव लेने से इंकार कर दिया। उन्होंने कहा कि शाह की सुरक्षा में चप्पे-चप्पे पर तैनात पुलिस सूचना के बावजूद आरोपी कार चालक को नहीं पकड़ सकी। लोगों ने परिजनों को आर्थिक मदद व मुआवजे की मांग भी की। चार घंटे हंगामे के बाद एसडीएम व डीएसपी ने आश्वासन दिया, जिसके बाद परिजन माने। पुलिस ने मृतक के बेटे के बयान के आधार पर अज्ञात कार चालक के खिलाफ केस दर्ज कर उसी तलाश शुरू कर दी है।

     फतेहपुरी कॉलोनी निवासी दीपक का कहना है कि उसका पिता राजकपूर होर्डिंग्स लगाने का काम करता है। मंगलवार रात को उसका पिता सांपला क्षेत्र में सड़क के दोनों तरफ भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के स्वागत होर्डिंग्स लगा रहा था। रात सवा एक बजे उसका पिता रोहद टोल से करीब एक किलोमीटर सांपला की तरफ था कि रांग साइड में तेज रफ्तार में आई इनोवा कार ने उसके पिता को कुचल दिया। कार काफी दूर तक उसके पिता को घसीटती ले गई। 
सांपला क्षेत्र में मंगलवार देर रात भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के स्वागत होर्डिंग्स लगा रहे युवक को अज्ञात इनोवा कार ने कुचल दिया। गंभीर रूप से घायल हुए व्यक्ति को पीजीआई लाया गया, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। वहीं, बुधवार को डेड हाउस पहुंचे परिजनों ने पुलिस पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए शव लेने से इंकार कर दिया। उन्होंने कहा कि शाह की सुरक्षा में चप्पे-चप्पे पर तैनात पुलिस सूचना के बावजूद आरोपी कार चालक को नहीं पकड़ सकी। लोगों ने परिजनों को आर्थिक मदद व मुआवजे की मांग भी की। चार घंटे हंगामे के बाद एसडीएम व डीएसपी ने आश्वासन दिया, जिसके बाद परिजन माने। पुलिस ने मृतक के बेटे के बयान के आधार पर अज्ञात कार चालक के खिलाफ केस दर्ज कर उसी तलाश शुरू कर दी है।
 
     बुधवार सुबह 10 बजे मृतक के परिजन पीजीआई मोर्चरी पहुंचे और शव को अपनाने से इंकार कर दिया। परिजनों ने पुलिस पर लापरवाही का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि घटना के तुरंत बाद पुलिस को सूचित कर दिया गया था, लेकिन पूरे हाईवे पर सुरक्षा के भारी-भरकम इंतजाम होने के बावजूद पुलिस एक्सीडेंट करने वाली कार को नहीं पकड़ सकी। उन्होंने आरोप लगाया कि पुलिस की नजर में आम आदमी की जिंदगी की कोई कीमत ही नहीं है। अगर पुलिस चाहती तो तत्परता दिखाते हुए आरोपी कार सवारों को पकड़ सकती थी। परिजन आरोपी कार सवारों की गिरफ्तारी व मृतक के परिजनों को नौकरी व मुआवजे के बाद ही शव लेने की बात पर अड़ गए।