News Description
डेंगू व मलेरिया रोकने के लिए स्वास्थ्य विभाग ने उठाए सख्त कदम,सभी वाटर पौंड्स में छोड़ी गंबूजिया म

    जिले में डेंगू व मलेरिया का मच्छर न पनपे, इसके लिए स्वास्थ्य विभाग ने सख्त कदम उठाए हैं। विभाग ने जिले के सभी वाटर पौंड्स में गंबूजिया मछली छोड़ी है। वहीं नागरिक अस्पताल, गन्नौर व बढ़खालसा सीएचसी पर बनी हैचरी में भी मछली डाली गई हैं। अब स्वास्थ्य विभाग का जिले की प्रत्येक सीएचसी व पीएचसी पर हैचरी बनाने का लक्ष्य है। विभाग के अधिकारियों के अनुसार जल्द ही इस पर कार्रवाई शुरू कर दी जाएगी। इतना ही नहीं अब स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी डेंगू व मलेरिया रोकथाम के लिए स्कूलों व आंगनबाड़ी केंद्रों में भी जागरूकता अभियान चलाएंगे।

     बारिश के कारण आसपास के क्षेत्र में पानी भी जमा हा रहा है। स्वास्थ्य विभाग के अनुसार इस तरह से पानी जमा होने पर उसमें मलेरिया व डेंगू का लार्वा पनपता है। इसके अलावा कूलरों व घरों की छतों पर पड़े टायर या अन्य सामान में भी लार्वा पनपने का खतरा बना रहता है। पिछले कई सालों से जिले में डेंगू व मलेरिया का प्रकोप छाया हुआ है। इस बार स्वास्थ्य विभाग ने इसके पनपते से ही पहले सख्त कदम उठाने का फैसला लिया है। जहां स्वास्थ्य विभाग की टीम घर-घर जाकर लोगों को डेंगू व मलेरिया रोकथाम के लिए लोगों को जागरूक कर रहे है, वहीं अब विभाग ने जिले के सभी 720 वाटर पौंड्स में गंबूजिया मछली छोड़ दी है। यह मछलियां डेंगू व मलेरिया के लार्वा को पानी में पनपने नहीं देती।

       डेंगू व मलेरिया रोकथाम के लिए स्वास्थ्य विभाग प्रयासरत है। इसके लिए विभाग की टीमें लोगों को घर-घर जाने के साथ-साथ अब आंगनबाड़ी केंद्रों पर जाकर भी जागरूकता अभियान चलाएगी। विभाग ने वाटर पोंड्स में गंबूजिया मछलियों को छोड़ दी है। अब विभाग का लक्ष्य जिले की प्रत्येक सीएचसी व पीएचसी में हैचरी खोलने का है। इस पर कार्रवाई चल रही है, जल्द ही काम शुरू हो जाएगा।