News Description
बिना मीटर नहीं मिलेगा पेयजल कनेक्शन,विभाग ने रेवाड़ी शहर के लिए चलाई योजना

     विभाग की तरफ से शुरू किए गए मोबाइल एप के माध्यम से ऑनलाइन बिल भी भरे जा रहे हैं। इस एप के जरिए उपभोक्ता घर बैठे नेट से बिल की अदायगी कर सकता है। अगर शहर में लगाए तो यहां हर माह 1 लाख रुपए से ज्यादा का बिल विभाग को ऑनलाइन मिल रहा है। एक दिन में 10 से ज्यादा उपभोक्ता औसत बिल भर रहे हैं। 

      शहरमें एक साल पहले तक जब अभियान नहीं चला था, तब आधे ही वैध कनेक्शन थे, लेकिन इसके बाद विभाग ने अभियान चलाया। इसके तहत लगातार कनेक्शन काटने के अलावा वैध भी किए गए। अब इस समय 28 हजार के आसपास पानी के वैध कनेक्शन हैं। इसके अलावा अभी भी 800 से ज्यादा अवैध कनेक्शन चल रहे हैं। 

     अब पेयजल कनेक्शन बिना मीटर लगवाए नहीं ले पाएंगे। जनस्वास्थ्य विभाग की ओर से शहरी क्षेत्र के लिए चलाई गई इस योजना को सख्ती से धरातल पर लाने की तैयारी की गई है। इसके लिए अब नए कनेक्शन तभी मिलेंगे, जब फाइल के साथ मीटर लगेगा। मीटर लगने से उपभोक्ताओं को फायदे भी होंगे। दूसरी ओर शहर में अवैध कनेक्शनों पर भी गाज गिर सकती है। विभाग जल्द अभियान चलाकर इनको भी नियमित करने की तैयारी में है। ऐसे में या तो खुद उपभोक्ता कनेक्शन नियमित करा लें अन्यथा विभाग काटने की कार्रवाई भी अमल में लाएगा। 

     जनस्वास्थ्य विभाग की ओर से प्रत्येक 6 या 3 महीने पर पानी का बिल भेजा जाता है। 6 महीने में 720 रुपए बिल आता है, लेकिन मीटर लगने पर 360 रुपए यानी आधा ही बिल आएगा। मीटर से उतना ही बिल आएगा, जितना हम पानी उपयोग करेंगे। प्रति यूनिट सवा रुपए का बिल बनेगा।