News Description
आईटीआईमें दाखिले को लेकर उलझन में विद्यार्थियों का दिमाग

      आईटीआईमें दाखिले को लेकर इस बार विद्यार्थियों का दिमाग उलझन में है। वे तय नहीं कर पा रहे हैं उन्हें किस दिशा में आगे बढ़ना है। पहले आवेदन प्रक्रिया में जहां सुस्ती नजर आई तो वहीं अब जब कट ऑफ के बाद काउंसिलिंग की बारी आई तो यहां भी विद्यार्थी उलझन में दिखे। दस-बीस नहीं बल्कि 156 विद्यार्थियों ने पहली काउंसिलिंग में हिस्सा ही नहीं लिया।

        पहली काउंसिलिंग में 360 विद्यार्थियों का चयन कट ऑफ के रूप में हुआ था, जिसमें से 204 ने जहां फीस जमा कर अपनी सीट पक्की कर ली तो वहीं 156 विद्यार्थियों ने पहली काउंसिलिंग से किनारा कर लिया। इस पर जब संस्थान ने विद्यार्थियों से संपर्क किया तो जवाब आया कि वे ट्रेड में बदलाव चाहते हैं। विद्यार्थियों ने बताया कि वे दूसरी काउंसिलिंग में हिस्सा लेंगे। विदित हो कि आईटीआई सोनीपत में 1110 सीटें हैं, लेकिन इस बार आवेदन अपेक्षित रूप से आईटीआई को नहीं मिले हैं। 

     आईटीआई परिसर में बिजली आपूर्ति सही प्रकार से नहीं हो रही है। जिस कारण विद्यार्थियों को ही नहीं स्टाफ सदस्यों को भी काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। परेशानी इस कदर है कि समय पर कार्रवाई नहीं करने पर आईटीआई प्रिंसिपल जगमिंदर सिंह ने इसकी शिकायत डीसी केएम पांडुरंग से भी की है। उनका कहना है कि एडमिशन के ऐन मौके पर बिजली व्यवस्था खराब है। 

     विद्यार्थियों को ज्यादा परेशानी मैकेनिकल, ड्राफ्टमैन, इलेक्ट्रिशियन, फिटर, टर्नर, वायरमैन को लेकर रही है। इसमें जहां कुछ विद्यार्थी इस बात से असंतुष्ट है कि जिस ट्रेड में उन्होंने आवेदन किया था वह नहीं मिली तो वहीं कुछ विद्यार्थी ट्रेड मुताबिक रुझान कम होने के कारण उसमें बदलाव कर रहे हैं।