# पाक PM के आरोप पर भारत का पलटवार-टेररिस्तान है पाकिस्तान         # मोदी का वाराणसी दौरा आज, 305 करोड़ से बने ट्रेड सेंटर का करेंगे इनॉगरेशन         # समुद्र में बढ़ेगा भारत का दबदबा, पहली स्कॉर्पिन पनडुब्बी तैयार         # रोहिंग्या विवाद के बीच म्यांमार को सैन्य साजो-सामान दे सकता है भारत         # चीन में सोशल मीडिया पर इस्लाम विरोधी शब्दों के प्रयोग पर लगी रोक         # परवेज मुशर्रफ का दावा-बेनजीर की हत्या के लिए उनके पति जरदारी जिम्मेदार          # भारत ने अफगानिस्तान में 116 सामुदायिक विकास परियोजनाओं की ली जिम्मेदारी         # जम्मू-कश्मीर में दो आतंकी गिरफ्तार, सशस्त्र सीमाबल पर किया था हमला        
News Description
जिला स्तरीय विश्व स्तनपान सप्ताह समारोह का आयोजन

मंगलवार को लघु सचिवालय के द्वितीय तल सभागार में जिला स्तरीय विश्व स्तनपान सप्ताह समारोह का आयोजन किया गया। इस समारोह के मुख्य अतिथि: डीपीओ सरला यादव रही। समारोह में जिला की सभी सीडीपीओ, सुपरवाईजर और आंगनवाड़ी कार्यकर्ता व आशावर्कर मुख्यरूप से मौजूद रही। यह सप्ताह 1 अगस्त से 7 अगस्त तक चलेगा। 
समारोह को सम्बोधित करते हुए डीपीओ सरला यादव ने कहा कि माँ इस सुन्दर सृष्टि के संचालन का आधार ही नही संसार को एक संस्कारित विश्व बनाने का माध्यम भी है इसलिए सभी प्रबुद्ध नागरिकों को गर्भवती महिलाओं और स्तनपान कराने वाली माताओं की खुराक पर विशेष ध्यान देना चाहिए ताकि वह बच्चे को और अधिक अपना दूध पिलाने में सक्षम हो सके। 
 उन्होनें कहा कि स्तनपान विकल्प नही है बल्कि स्वभाविक संकल्प है बच्चे के जन्म के एक घंटे के अन्दर नवजात बच्चे को माँ का पहला पीला गाढ़ा दूध अनिवार्य रूप से पिलया जाना चाहिए उन्होनें कहा कि  माँ का पहला गाढ़ा दूध पोषण से भरपूर होता  हैं जो  शिशु को रोगों से भी बचाता है यह शिशु के लिए पहला रक्षक है। प्रथम छह माह के दौरान माँ बच्चे को केवल अपना दूध पिलाए अन्य कोई खाद्य पदार्थ यहां तक कि पानी भी न दें। छ: माह के बाद ऊपरी खुराक भी दें और स्तनपान जारी रखें। दो पर्ष की आयु तक अथवा उसके बाद भी स्तनपान जारी रखें।