#घाटी में आतंकवाद को नई धार देने की फिराक में हाफिज         # 26/11 जैसे हमलों को रोकने के लिए तैयार भारत, सैटेलाइट के जरिए पकड़े जाएंगे संदिग्ध         # पद्मावती के विरोध में किले में लटका दी लाश, पत्थर पर लिख दी धमकी         # हरियाणा के 13 जिलों में तीन दिन के लिए मोबाइल इंटरनेट सेवाएं बंद         # जनहित याचिकाओं के गलत इस्तेमाल पर सुप्रीम कोर्ट चिंतित, संशोधन पर विचार         # ऑड-ईवन योजना में दिल्ली के साथ NCR के दूसरे शहर भी होंगे शामिल :EPCA         # UP निकाय चुनावों में EVM की विश्वसनीयता पर शत्रुघ्न सिन्हा ने उठाए सवाल         # पाक की बेशर्मी, फूलों से सजी गाड़ी से पहुंचा आतंकी हाफिज, लाहौर में मना जश्न        
News Description
जिला स्तरीय विश्व स्तनपान सप्ताह समारोह का आयोजन

मंगलवार को लघु सचिवालय के द्वितीय तल सभागार में जिला स्तरीय विश्व स्तनपान सप्ताह समारोह का आयोजन किया गया। इस समारोह के मुख्य अतिथि: डीपीओ सरला यादव रही। समारोह में जिला की सभी सीडीपीओ, सुपरवाईजर और आंगनवाड़ी कार्यकर्ता व आशावर्कर मुख्यरूप से मौजूद रही। यह सप्ताह 1 अगस्त से 7 अगस्त तक चलेगा। 
समारोह को सम्बोधित करते हुए डीपीओ सरला यादव ने कहा कि माँ इस सुन्दर सृष्टि के संचालन का आधार ही नही संसार को एक संस्कारित विश्व बनाने का माध्यम भी है इसलिए सभी प्रबुद्ध नागरिकों को गर्भवती महिलाओं और स्तनपान कराने वाली माताओं की खुराक पर विशेष ध्यान देना चाहिए ताकि वह बच्चे को और अधिक अपना दूध पिलाने में सक्षम हो सके। 
 उन्होनें कहा कि स्तनपान विकल्प नही है बल्कि स्वभाविक संकल्प है बच्चे के जन्म के एक घंटे के अन्दर नवजात बच्चे को माँ का पहला पीला गाढ़ा दूध अनिवार्य रूप से पिलया जाना चाहिए उन्होनें कहा कि  माँ का पहला गाढ़ा दूध पोषण से भरपूर होता  हैं जो  शिशु को रोगों से भी बचाता है यह शिशु के लिए पहला रक्षक है। प्रथम छह माह के दौरान माँ बच्चे को केवल अपना दूध पिलाए अन्य कोई खाद्य पदार्थ यहां तक कि पानी भी न दें। छ: माह के बाद ऊपरी खुराक भी दें और स्तनपान जारी रखें। दो पर्ष की आयु तक अथवा उसके बाद भी स्तनपान जारी रखें।